आतंकवादियों की गोलीबारी में एसपीओ समेत पत्नी और बेटी की हुई मौत

कश्मीर में एक बार फिर आतंकवादियों द्वारा खुली गोलीबारी की घटना देखी गई। यह घटना रविवार रात दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के हरिपरिगाम गांव में हुई। घटना में बताया गया है कि एक विशेष पुलिस अधिकारी, उनकी पत्नी और उनकी 22 वर्षीय बेटी को परिवार पर हमला करने वाले आतंकवादियों ने मार डाला। पुलिस ने एसपीओ की पहचान फैयाज अहमद के रूप में की है। घटना के बारे में जानकारी देते हुए पुलिस अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों के एक समूह ने जबरन उनके घर में घुसकर अंधाधुंध गोलीबारी की, जिससे परिवार घायल हो गया। गंभीर रूप से घायल होने के कारण रात में अहमद और उनकी पत्नी दोनों ने दम तोड़ दिया, जबकि उनकी बेटी को सरकारी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। 

बाद में, अनंतनाग नाम की बेटी ने भी सोमवार तड़के दम तोड़ दिया। एक पुलिस वाले ने अपने बयान पर जानकारी दी कि “इस आतंकी घटना में फैयाज अहमद, उनकी पत्नी और उनकी बेटी को गोली लगने से गंभीर चोटें आई हैं। हादसे में अहमद और उनकी पत्नी ने दम तोड़ दिया। इलाके की घेराबंदी कर दी गई है। तलाश अभी जारी है। जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर, मनोज सिन्हा ने हत्या को क्रूर करार दिया और ट्वीट किया, “मैं अवंतीपोरा में एसपीओ फैयाज अहमद और उनके परिवार पर क्रूर आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। शहीद के परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदना और घायलों के ठीक होने की प्रार्थना है।

वही इस बीच, भाजपा प्रवक्ता अल्ताफ ठाकुर ने हमले की कड़ी निंदा की और इसे कायरतापूर्ण और बर्बर बताया। उन्होंने आगे सवाल करते हुए कहा, "निर्दोष पत्नी और पुलिसकर्मी फैयाज अहमद की बेटी का क्या कसूर था? महिलाओं की हत्या [नहीं] बहादुरी है, बल्कि पूरी तरह से कायरतापूर्ण हमला है जिसकी निंदा की जानी चाहिए।” इस तरह के क्रूर कृत्य के बाद, पुलिस और सेना ने इलाके में एक संयुक्त अभियान शुरू किया है। यह केंद्र शासित प्रदेश में स्थानीय लोगों पर हमलों की श्रृंखला में नवीनतम है। इससे पहले भी, पुलिस ने केलाशपोरा के एक मोबाइल फोन की दुकान के मालिक उमर नजीर भट पर ओल्ड सिटी के मेन चौक हब्बा कदल में अपनी दुकान के अंदर आतंकवादियों द्वारा गोली चलाने की घटना की सूचना दी थी। जबकि एक अन्य घटना 22 जून को हुई थी, श्रीनगर के बाहरी इलाके में एक संदिग्ध आतंकवादी हमले में एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई थी। अधिकारियों ने उसकी पहचान इंस्पेक्टर परवेज अहमद के रूप में की, जो पुलिस के आपराधिक जांच विभाग विंग के साथ काम करता था, उसे नौगाम में उसके घर के पास गोली मार दी गई थी।

फर्जी टीकाकरण को लेकर पुलिस ने आरोपी देबंजन देब के आवास पर मारे छापे

जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर फिर दिखे दो ड्रोन, कल भी हुआ था ड्रोन अटैक

चेन्नई ने स्थगित किया टीकाकरण अभियान, जानिए क्या है वजह?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -