करवाचौथ व्रत रख रहें हैं तो जरूर पढ़े यह 15 नियम

आज करवाचौथ का पावन पर्व मनाया जा रहा है। यह वही दिन है जब विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। इसी के साथ ही कई कुँवारी लडकियां अच्छे वर की कामना से करवा चौथ का व्रत रखती हैं। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं व्रत को रखने के 15 खास नियम।

* कहा जाता है यह व्रत सूर्योदय से पहले से प्रारंभ हो जाता है और उसके पूर्व कुछ भी खा-पी सकते हैं। हालाँकि उसके बाद जब तक रात्रि में चंद्रोदय नहीं हो जाता तब तक जल भी ग्रहण नहीं करते हैं। 

* चन्द्र दर्शन के बाद ही इस व्रत का विधि विधान से पारण करना चाहिए।

* शास्त्रों के मुताबिक केवल सुहागिनें या जिनका रिश्ता तय हो गया हो वही स्त्रियां ये व्रत रख सकती हैं।

*  पत्नी के अस्वस्थ होने की स्थिति में पति ये व्रत रख सकते हैं। 
* करवा चौथ की पूजा में करवा माता के अतिरिक्त भगवान शिव, गणेश, माता पार्वती और कार्तिकेय सहित नंदी जी की भी पूजा की जाती है।


* पूजन के समय देव-प्रतिमा का मुख पश्चिम की तरफ होना चाहिए और महिला को पूर्व की ओर मुख करना चाहिए।

*  इस व्रत के दौरान महिलाओं को लाल या पीले वस्त्र ही पहनना चाहिए।

* इस दिन पूर्ण श्रृंगार करना चाहिए।

* पारण के समय अच्छा भोजन करना चाहिए।

*  करवा चौथ व्रत की कथा सुनते समय साबूत अनाज और मीठा साथ में रखें।

* कहानी सुनने के बाद बहुओं को अपनी सास को बायना देना चाहिये।

* कुँवारी महिलाएं चंद्र की जगह तारों को देखे।

* चंद्रदेव निकले तो उन्हें देखने के बाद अर्घ्य दें।

*  इस व्रत में मिट्टी के करवे लेकर उनसे पूजा करें।

* सफेद रंग की वस्तुओं का दान न करें।

इस व्रत कथा को पढ़े या सुने बिना सम्पूर्ण नहीं होता करवाचौथ का व्रत

अगर पति से रोज होती है अनबन और ठीक नहीं है रिश्ता तो करवाचौथ पर करें यह विशेष उपाय

करवाचौथ पर रचाना चाहती हैं डार्क मेहंदी तो जरूर अपनाये यह 6 टिप्स

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -