करतारपुर कॉरिडोर भारत - पाक के बीच ये क्यों है खाद , जाने

करतारपुर कॉरिडोर भारत - पाक के बीच ये क्यों है खाद , जाने

9 नवंबर को भारत-पाकिस्तान के बीच शुरू हुए करतारपुर कॉरिडोर का इनॉगरेशन हुआ है। करतारपुर कॉरिडोर असल में सिख धर्म का तीर्थ स्थान जाने के लिए बनने वाला एक 4 लेन हाईवे है। ये करतारपुर तक जाता है जहां गुरुद्वारा दरबार साहिब है जो पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है। इसे करतारपुर साहिब भी कहा जाता है जो पूरी दुनिया का सबसे बड़ा गुरुद्वारा है। यहीं गुरु नानक ने सिख धर्म की शुरुआत की थी और मौजूदा गुरुद्वारा वहां स्थित है जहां गुरु नानक जी ने आखिरी सांस ली थी। ये पाकिस्तान और भारत की बॉर्डर पर स्थित है और इसीलिए इसका महत्व बहुत ज्यादा है। क्योंकि ये गुरु नानक का मृत्यु स्थान है इसलिए काफी समय से सिख धर्म के लोग यहां पर जाने के लिए इजाजत मांग रहे हैं। 

करतारपुर गुरुद्वारा और डेरा बाबा नानक साहिब (भारत, पंजाब में स्थित) के बीच एक कॉरिडोर बनाया जाना है जिसके लिए पाकिस्तान और भारत बॉर्डर पर 4.7 किलोमीटर का ये कॉरिडोर बनाया जाएगा जिसकी मदद से तीर्थ यात्री बिना वीज़ा के पाकिस्तान जा सकेंगे। इस कॉरिडोर के बनने के बाद सिख तीर्थ यात्रियों की लंबी यात्रा खत्म हो जाएगी। अभी करतारपुर गुरुद्वारा जाने के लिए यात्रियों को पहले लाहौर जाना होता है और उसके बाद बस के जरिए 125 किलोमीटर लंबी यात्रा करनी होती है। जब्कि आप भारत की बॉर्डर से करतारपुर गुरुद्वारे को दूरबीन की मदद से देख सकते हैं ये इतना पास है। 

करतारपुर साहिब एक टूरिस्ट डेस्टिनेशन नहीं बल्कि एक तीर्थ स्थान है इसलिए इसके लिए सरकार ने खास तरह के इंतज़ाम किए हैं। अभी तक https://prakashpurb550.mha.gov.in/kpr/ वेबसाइट पर लॉगइन कर आप रजिस्ट्रेशन करवा सकती थीं। हालांकि, अभी ये रजिस्ट्रेशन बंद हैं और पहले जत्थे के सफलता पूर्वक जाने के बाद ही इसके बारे में आगे डिटेल्स दी जाएंगी। इसके अलावा, कुछ आधिकारिक टूर ऑपरेटर्स भी इस कॉरिडोर के लिए टूर करवा सकते हैं हालांकि, उन्हें पाकिस्तान सरकार से NOC लेना होगा और इसीलिए हर टूर ऑपरेटर इसे नहीं करवा सकता है। भारतीय टूरिस्ट के लिए वीजा की जरूरत नहीं है। हालांकि, अगर कोई सिख किसी और देश से आ रहा है तो उसे लाहौर से वीजा लेना होगा। 

करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन करने के दौरान इमरान खान ने पुछा, हमारा सिद्धू कहाँ है ? देखें वीडियो

करतारपुर कॉरिडोर के पंडाल में आई बड़ी मुसीबत, क्या पीएम मोदी नहीं कर पाएंगे उद्घाटन!

करतारपुर कॉरिडोर के पहले जत्थे में शामिल होंगे बीजेपी सांसद सनी देओल, कांग्रेस नेता सिद्धू को भी मिली अनुमति