बांग्लादेश से आई रोनी बेगम, भारत में पायल घोष बनकर रहने लगी.., फर्जी आधार और पैन कार्ड बनवाए

बैंगलोर: कर्नाटक पुलिस ने बांग्लादेश की एक ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है, जो 15 वर्षों से भारत में हिंदू पहचान के साथ रह रही थी। 27 साल की इस महिला को बेंगलुरु के बाहरी इलाके से फॉरेनर्स रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफ इंडिया (FRRO) के इनपुट के आधार पर अरेस्ट किया गया है। पुलिस के मुताबिक, वह बांग्लादेश के नारेल जिले की निवासी है। उसे 25 जनवरी को बेंगलुरु में उसके किराए के घर से पकड़ा गया है। पुलिस ने बताया है कि तीन महीने के सर्च ऑपरेशन के बाद उसे गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तार बांग्लादेशी महिला की शिनाख्त रोनी बेगम के रूप में की गई है। भारत में उसने अपना नाम पायल घोष रख लिया था और मंगलुरु के एक डिलीवरी एक्जीक्यूटिव नितिन कुमार के साथ शादी कर ली थी। महिला की गिरफ्तारी के बाद से उसका पति फरार बताया जा रहा है। पुलिस अब नितिन को खोज रही है। रोनी बेगम 12 वर्ष की आयु में भारत आ गई थी। उसने मुंबई के एक डांस बार में नौकरी की। इस दौरान उसने अपना नाम पायल घोष रख लिया और दावा किया था कि वह एक बंगाली है। इसी बीच उसे नितिन से प्यार हो गया और फिर दोनों ने विवाह कर लिया। 

शादी के बाद वे 2019 में बेंगलुरु के अंजननगर इलाके में किराए से कमरा लेकर रहने लगे। रोनी ने दर्जी का काम शुरू किया। मुंबई में रहते ही उसने पैन कार्ड बनवा लिया था। बाद में नितिन ने बेंगलुरु में अपने दोस्त की सहायता से आधार कार्ड भी बनवा लिया। रोनी पुलिस की नजर में तब आई जब उसने अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए बांग्लादेश जाने वाली थी। वह कोलकाता पहुंची और वहाँ से उसने ढाका जाने का प्लान बनाया।

इसी बीच माइग्रेशन अधिकारियों को उसके पासपोर्ट पर शक हुआ और उन्होंने उसे जब्त कर लिया। उसे देश से नहीं जाने को कहा गया। 2020 में इस घटना की जाँच के दौरान उसका बयान रिकॉर्ड किया गया था। मगर उसे गिरफ्तार नहीं किया था। बाद में जाँच के दौरान उसके अवैध बांग्लादेशी अप्रवासी होने की बात पता चली थी। इसके बाद FRRO ने बेंगलुरु पुलिस आयुक्त को उसके संबंध में सूचित किया। इस संबंध में ब्यादरहल्ली पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। DCP वेस्ट संजीव पाटिल ने बताया कि फर्जी पैन कार्ड, आधार कार्ड और वोटर आईडी दिलाने में सहायता करने वाले लोगों का पता लगाने के लिए छानबीन  की जा रही है। 

भय्यू महाराज सुसाइड केस में फैसला! जिनके भरोसे छोड़ा था सारा कामकाज वही बने मौत की वजह, हुई सजा

कई महिलाओं के सामने एक महिला के साथ सामूहिक बलात्कार, दिल्ली के मामले में 9 आरोपी गिरफ्तार

6 वर्षीय मासूम के साथ बलात्कार करने वाले मोहम्मद मेजर को कोर्ट ने सुनाई फांसी की सजा

 

Most Popular

- Sponsored Advert -