बेंगलुरू हिंसा: उपद्रवियों की संपत्ति जब्त और SDPI पर बैन, कैबिनेट बैठक में दो मुद्दों पर होगा फैसला

Aug 14 2020 04:00 PM
बेंगलुरू हिंसा:  उपद्रवियों की संपत्ति जब्त और SDPI पर बैन, कैबिनेट बैठक में दो मुद्दों पर होगा फैसला

बेंगलुरू: कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में भड़की हिंसा के पीछे सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) का नाम सामने आया है. सूबे की येदियुरप्पा सरकार इस पर प्रतिबंध लगा सकती है. कर्नाटक के मंत्री केएस ईश्वरप्पा ने कहा कि SDPI एक बेकार संगठन है. हम इसे बैन करने के बारे में विचार कर रहे हैं. मंत्री ने कहा कि जल्द ही दो अहम फैसले लिए जाएंगे. पहला ये कि बेंगलुरू हिंसा में संलिप्त लोगों की संपत्ति जब्त की जाएगी. दूसरा SDPI पर प्रतिबंध लगाया जाएगा. 20 मई को कैबिनेट की बैठक में इन 2 मुद्दों पर चर्चा की जाएगी.

वहीं दूसरी तरफ, बेंगलुरु पुलिस ने इस मामले में 60 और लोगों को अरेस्ट किया है. आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि,‘‘ डीजे हल्ली और केजी हल्ली मामले में गिरफ्तारी जारी है और कलीम पाशा समेत 60 और लोगों को अरेस्ट किया गया है. अब तक कुल 206 लोगों को अरेस्ट किया गया है.’’ उन्होंने बताया है कि कलीम पाशा बृहद बेंगलुरु महानगर पालिका (BBMP) में नगवारा से पार्षद इरशाद बेगम का पति है और उस पर हिंसा करने वालों को भड़काने का आरोप है.

कलीम पाशा की गिरफ्तारी को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर हमला बोला है।  भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बी एल संतोष ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘‘ कर्नाटक में कांग्रेस की पार्षद का पति कलीम पाशा गिरफ्तार. SDPI के चार वरिष्ठ पदाधिकारी भी गिरफ्तार. इसके बाद भी राज्य के कांग्रेस नेता दूसरों पर इल्जाम लगा रहे हैं. दंगों की निंदा नहीं कर रहे. उनकी निगाहें सिर्फ आगामी BBMP चुनाव पर है.’’ उन्होंने ट्वीट किया कि, ‘‘ कांग्रेस दलितों के खिलाफ है.’’

15 अगस्त को 'वन नेशन वन हेल्थ कार्ड' लांच कर सकते हैं पीएम मोदी, आपको होगा ये बड़ा फायदा

नवरात्रि : इस तरह स्थापित करें कलश, जानिए पूजा विधि और मन्त्र के बारे में...

आर्थिक संकट से निपटने के लिए तैयार टाटा स्टील, बनाया 20,144 करोड़ रुपये का इमरजेंसी फंड