क्या टीपू सुल्तान स्वतंत्रता सेनानी नहीं ? कर्नाटक में फिर मचा सियासी बवाल

बैंगलोर: स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ से एक दिन पहले कर्नाटक में टीपू सुल्तान को लेकर एक बार फिर बखेड़ा खड़ा हो गया है। कर्नाटक कांग्रेस ने बैंगलोर में विभिन्न स्वतंत्रता सेनानियों की फोटोज़ के साथ एक पोस्टर लगाया था, जहां शनिवार रात तोड़फोड़ की गई। कांग्रेस की राज्य इकाई ने, रिपोर्ट के अनुसार, टीपू सुल्तान के साथ हुड्सन सर्कल में एक पोस्टर लगाया था, जिसे देर रात फाड़ दिया गया है। कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने बाद में उस स्थान का दौरा किया और सरकार से ऐसा करने वालों के ख़िलाफ कार्रवाई की मांग की।

उन्होंने कहा है कि, 'कुछ शरारती तत्व शहर की शांति को भंग करना चाहते हैं। हुड्सन सर्कल में कई पोस्ट थे, जिन्हें क्षति पहुंचाया गया है, जो महान स्वतंत्रता सेनानियों का अनादर है।' उन्होंने कहा कि भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) ने चामराजपेट में टीपू पैलेस को स्वतंत्रता दिवस से पहले सजाया भी है, मगर भाजपा को अभी भी टीपू सुल्तान से दिक्कत है। यह सब इसलिए किया जा रहा है ,क्योंकि कांग्रेस पार्टी का संभावित फ्रीडम मार्च उन्हें हजम नहीं हो रहा है।

डीके शिवकुमार ने इस संबंध में एक ट्वीट भी किया है। उन्होंने लिखा कि, 'जेल से बाहर आकर अंग्रेजों को क्षमा-याचना पत्र लिखने वाला सावरकर यदि स्वतंत्रता सेनानी बन गया, तो चार एंग्लो-मैसूर युद्ध लड़ने वाले और अंग्रेजों को बंधक बनाकर युद्ध में मारे गए टीपू सुल्तान स्वतंत्रता सेनानी नहीं हैं ?'

'सावरकर ने दिया था द्वी-राष्ट्र सिद्धांत..', विभाजन की बरसी पर कांग्रेस ने लगाए आरोप

हर घर तिरंगा अभियान को लेकर अखिलेश ने भाजपा पर बोला हमला, जानिए क्या कहा ?

हर घर तिरंगा अभियान भाजपा की 2024 लोकसभा चुनाव की तैयारी - सपा सांसद का बयान

 

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -