करमा सिर्फ त्यौहार मात्र नहीं है, बल्कि यह कई संदेश भी हमें देता है: सीएम हेमंत सोरेन

रांची: झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन ने शुक्रवार को यहां प्रकृति के त्यौहार करमा पर जनता को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि करमा प्रकृति से मानव जीवन के गहरे जुड़ाव का त्यौहार है। यहां आदिवासी छात्रावास परिसर में प्रकृति पर्व करमा के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में सोरेन ने बताया कि करमा त्यौहार अपनी समृद्ध परंपरा, सभ्यता तथा संस्कृति को अक्षुण्ण रखने का प्रतीक है। 

साथ ही सोरेन ने कहा, 'हम इस त्यौहार के जरिए अपनी सभ्यता तथा संस्कृति को और मजबूत बनाने का संकल्प लें।' उन्होंने कहा, 'करमा केवल त्यौहार मात्र नहीं है, बल्कि यह कई संदेश भी हमें देता है। यह त्यौहार मानव जीवन के प्रकृति से अटूट लगाव को दिखता है। सदियों से मानव सभ्यता तथा प्रकृति के बीच के समन्वय को बताता है।' सीएम ने कहा कि झारखंड में चलना ही नृत्य है तथा बोलना ही गान है। करमा त्यौहार इसी की पहचान है। वहीं, इससे पूर्व करमा त्यौहार आयोजन समिति के द्वारा सीएम का परंपरागत ढंग से स्वागत किया गया।

वही सीएम ने करम राजा की पूजा की। इस के चलते सीएम ने मांदर पर थाप दी तो विद्यार्थियों के कदम थिरक रहे थे। हालांकि, बीते साल की भांति इस साल भी कोरोना के नियमों का पालन करते हुए सादगी से करमा पर्व मनाया गया। इस साल भी किसी प्रकार के जुलूस का आयोजन नहीं किया गया। करम अथवा करमा त्यौहार झारखंड के आदिवासियों तथा मूलवासियों का लोकपर्व है। यह त्यौहार फसलों तथा वृक्षों की पूजा का त्यौहार है। इस त्यौहार को भाई-बहन के अगाध प्यार के तौर पर भी जाना जाता है। 

पंजाब में सीएम अमरिंदर सिंह को कुर्सी से हटाएगी कांग्रेस ?

नागालैंड के पूर्व राज्यपाल आर एन रवि ने इस पद के लिए ली शपथ

लॉस एंजिल्स क्षेत्र में महसूस किए गए भूकंप के झटके, जानिए क्या रही तीव्रता

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -