'आगे बढ़ने' के लिए कपिल सिब्बल को छोड़नी पड़ी कांग्रेस, सपा का समर्थन मिलने के बाद कही ये बात

नई दिल्ली: वरिष्ठ नेता और पेशे से वकील कपिल सिब्बल ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने ऐलान किया कि उन्होंने पिछले सप्ताह पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। बुधवार को कपिल सिब्बल ने समाजवादी पार्टी (सपा) के समर्थन से राज्यसभा का नामांकन दायर कर दिया। मीडिया से बात करते हुए कपिल सिब्बल ने कहा कि उन्हें कांग्रेस पार्टी से कोई शिकायत नहीं है। उन्होंने कहा, अब आगे बढ़ने का वक़्त है। लेकिन, सिब्बल के इस बयान से यह सवाल उठता है कि क्या कांग्रेस में उनके पास आगे बढ़ने का मौक़ा नहीं था ? या फिर कांग्रेस ही उन्हें आगे बढ़ाना नहीं चाहती थी ? 

कांग्रेस सरकार में केंद्रीय मंत्री रह चुके कपिल सिब्बल पार्टी में संगठनात्मक सुधार की मांग करने वाले जी -23 नेताओं के सदस्य थे। उन्होंने सपा की तरफ से समर्थित एक निर्दलीय के रूप में अपना नामांकन दायर किया है। मीडिया से बात करते हुए, कपिल सिब्बल ने कहा कि, मैं देश में एक स्वतंत्र आवाज बनना चाहता हूं। इस वक़्त संसद में कोई स्वतंत्र आवाज नहीं है। हर कोई किसी न किसी सियासी दल के बंधन से बंधा हुआ है और सदस्य अपने मन की बात नहीं कह सकते।

अपने नामांकन के लिए सपा के समर्थन के संबंध में बात करते हुए, कपिल सिब्बल ने जोर देते हुए कहा कि वह एक स्वतंत्र सदस्य हैं। कपिल सिब्बल ने बताया कि किसी को भी हमारे देश की वास्तविक समस्याओं और इसकी राजनीति की परवाह नहीं है, जो पूरे सदन में गूंजती है। हालांकि कपिल सिब्बल ने कांग्रेस के खिलाफ कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।

'हर मस्जिद की खुदाई करो, शिव निकले तो हमारा और शव निकले तो तुम्हारा'

विदेश मंत्रालय की मंजूरी लिए बिना लंदन निकल लिए राहुल गांधी, क्या कांग्रेस नेता पर होगी कार्रवाई ?

कांग्रेस से अलग होते ही कपिल सिब्बल ने सोनिया गांधी को लेकर कह डाली बड़ी बात

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -