कांवड़ यात्रा को लेकर प्रशासन सतर्क, निगरानी कर रही 144 'तीसरी आंखें'

Jul 18 2019 06:30 PM
कांवड़ यात्रा को लेकर प्रशासन सतर्क, निगरानी कर रही 144 'तीसरी आंखें'

हरिद्वार: पवित्र सावन महीने की शुरुआत के साथ ही हरिद्वार में कावड़ यात्रा का शुभारम्भ भी हो गया है. उत्तर भारत के दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान सहित कई प्रदेशों से कांवड़िए हरिद्वार का रुख करने लगे है. यहां हर की पौड़ी से गंगाजल भरकर अपने-अपने शिवालयों की तरफ रवाना भी हो रहे हैं. हालांकि अभी कावड़रियों की तादाद कम नज़र आ रही है, किन्तु जैसे-जैसे शिवरात्रि का दिन समीप आएगी, वैसे-वैसे कांवड़ियों की तादाद में बढ़ोत्तरी होती जाएगी. 

वहीं, मेले के लिए जिला और पुलिस प्रशासन ने भी अपनी तैयारियां संपन्न कर ली हैं. सुरक्षा की दृष्टि से पूरे मेला क्षेत्र को 12 सुपर जोन, 31 जोन और 133 सेक्टरों में बांट दिया गया है. उत्तराखंड पुलिस के 10,000 जवानों के साथ ही पीएसी, 6 कंपनी पैरामिलिट्री फॉर्स, बम निरोधक दस्ते, डॉग स्कॉयड और जल पुलिस के जवानों को भी तैनात किया गया है. इसके अतिरिक्त 144 सीसीटीवी कैमरों और 3 ड्रोन कैमरे से भी पूरे मेले पर निगाह रखी जा रही है.

दरअसल, कांवड़िए भगवान भोलेनाथ में बहुत श्रद्धा रखते हैं. अपने मन में मन्नत लिए कोई श्रद्धालु पहली बार कांवड़ लेने आया है, तो कोई वर्षों से लगातार कांवड़ लेने हरिद्वार पहुंच रहा है. शिव भक्तों का मानना है कि पैदल मार्ग में आने वाली गर्मी, धूप, बारिश जैसी सभी कठिनाइयां भगवान भोलेनाथ की कृपा से दूर हो जाती हैं और वे बिना किसी परेशानी के अपने नगरों के शिवालय तक पहुंचकर भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक करते हैं. 

इस सप्ताह तीन डॉलर प्रति बैरल सस्ता हुआ क्रूड आयल, क्या घटेगी पेट्रोल-डीज़ल की कीमतें ?

कुलभूषण जाधव मामले पर आइसीजे की फैसले पर जाने विभिन्न नेताओं की प्रतिक्रया

कुलभूषण जाधव मामला: 1 रु वाले भारतीय वकील से हारा पाक का 20 करोड़ का वकील