कृष्ण जन्माष्टमी पर लगाए इस मुख्य चीज़ का भोग, हर मनोकामना होगी पूरी

Aug 19 2019 03:40 PM
कृष्ण जन्माष्टमी पर लगाए इस मुख्य चीज़ का भोग, हर मनोकामना होगी पूरी

आप सभी को बता दें कि हर साल मनाई जाने वाली श्री कृष्ण जन्माष्टमी इस साल भी मनाई जाने वाली है लेकिन इस बार इसकी तारीख को लेकर समंजस की स्थिति बनी हुई है. यह तय नहीं हो पा रहा है कि जन्माष्टमी 23 अगस्त को है या 24 अगस्त को. ऐसे में आप सभी जानते ही हैं कि कृष्ण का स्वभाव बचपन से ही नटखट था और श्रीकृष्ण को बचपन से ही माखन पसंद था मां यशोदा उन्हें खुदी माखन मिश्री बनाकर खिलाती थीं. ऐसे में बहुत कम लोग जानते हैं कि आखिर क्यों उन्हें माखन और मिश्री ही पसंद है.

आप सभी ने कहानियों में पढ़ा होगा और सुना होगा कि माखन मिश्री खाने के बाद भी कृष्णा पूरे गांव में जहां भी मक्खन निकाला जाता था, चुराकर खा लेते थे. इसी के कारण उनका नाम माखनचोर पड़ा और जन्माष्टमी के अवसर पर उन्हें भक्त माखन मिश्री का भोग लगाया जाने लगा. जी हाँ, वहीं जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर भगवान श्री कृष्ण के लिए छप्पन भोग भी बनाया जाता है जिसमें 56 तरह की खाने की कई चीजें शामिल होती हैं और इसी के साथ कहते हैं कि भगवान को भोग लगाने के बाद इन सभी चीजों को भक्तों में प्रसाद के रूप में बांट दिया जाता है.

वहीं इस प्रसाद को ग्रहण करने के बाद व्रतधारी अपना व्रत तोड़ते हैं और ऐसी मान्यता है कि छप्पन भोग में श्रीकृष्ण के पंसदीदा व्यंजन होते हैं जैसे अनाज, फल, मेवे, मिठाई, पेय पदार्थ, नमकीन और आठ प्रकार की आचार शामिल होती है. आपको बता दें कि छप्पन भोग में से श्रीकृष्ण के सबसे ज्यादा पंसदीदा व्यंजन होते हैं अनाज, फल, ड्राई फ्रूट्स, मिठाई, पेय पदार्थ, नमकीन और आचार की श्रेणी में आने वाले आठ प्रकार की चीजें होती हैं और छप्पन भोग में सामान्य रूप से माखन मिश्री खीर और रसगुल्ला, जलेबी, रबड़ी, मठरी, मालपुआ, मोहनभोग, चटनी, मुरब्बा, साग, दही, चावल, दाल, कढ़ी, घेवर, चीला, पापड़, मूंग दाल का हलवा, पकोड़ा, खिचड़ी, बैंगन की सब्जी, लौकी की सब्जी, पूरी, बादाम का दूध, टिक्की, काजू, बादाम, पिस्ता जैसी चीजें शामिल होती हैं. इसी के साथ अगर आपकी कोई मनोकामना है तो आप उस मनोकामना को पूरा करवाने के लिए उन्हें श्रद्धा पूर्वक माखन मिश्री एक मुख्य भोग चढ़ा दें.

जन्माष्टमी पर करें श्रीकृष्ण अष्टक का पाठ, मिट जाएंगे सारे संताप

इस महीने भूल से भी ना करें दही का सेवन वरना...

जन्माष्टमी पर विशेष फलदायी होता है 'श्री कृष्ण चालीसा' का पाठ