4 अगस्त को है कामिका एकादशी, जरूर पढ़े या सुने यह कथा

सावन महीने में पड़ने वाली एकादशी को कामिका एकादशी के नाम से जाना जाता है। यह एकादशी श्रावण मास की कृष्ण पक्ष तिथि को पड़ रही है। आप सभी को बता दें कि इस बार कामिका एकादशी 4 अगस्त 2021 को पड़ रहा है। ऐसे में इस दिन भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है। तो आइए जानते हैं आज कामिका एकादशी की व्रत कथा।

कामिका एकादशी व्रत कथा - बहुत समय पहले एक गांव में पहलवान रहता था। पहलवान नेक दिल का आदमी था लेकिन उसका स्वभाव बहुत क्रोध करने वाला था। इसी वजह से आए दिन उससे किसी न किसी की बहस हो जाती थी। एक दिन पहलवान ने एक ब्राह्मण से झगड़ा कर लिया। उसके ऊपर क्रोध इतना हावी हो गया कि उसने ब्राह्मण की हत्या कर दी। जिसकी वजह से उस पर ब्राह्मण हत्या का दोष लग गया। इस दोष से बचने और पश्चाताप के लिए वह ब्राह्मण के दाह संस्कार में शामिल होने गया। लेकिन पंडितों ने उसे वहां से भगा दिया। पंडितों ने ब्रह्माण की हत्या का दोषी मानकर पहलवान का समाजिक बहिष्कार कर दिया। ब्राह्मणों ने पहलवान के यहां सभी धार्मिक कार्य करने से मना कर दिया।

सामाजिक बहिष्कार से परेशान होकर पहलवान ने एक साधु से पूछा कि वह कैसे इस दोष से मुक्त हो सकता है। इस पाप से बचने का उपाय जानना चाहा। साधु ने पहलवान को कामिका एकादशी का व्रत करने की सलाह दी। साधु के कहने पर पहलवान ने कामिका एकादशी व्रत का विधि विधान से पालन किया। एक दिन रात पहलवान भगवान विष्णु जी मूर्ति के पास सो रहा था। उसे नींद में भगवान विष्णु के दर्शन हुए और उसने सपने में देखा कि भगवन उसे ब्राह्मण हत्या के दोष से मुक्त कर दिया है। उसी दिन से कामिका एकादशी व्रत रखने का प्रचलन हो गया।

19 अगस्त को अक्षय कुमार की बेल बॉटम से टकराएगी ये बड़ी फिल्म, होगी जबरदस्त तकरार

मानसून सत्र को लेकर पीएम मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना, बोले- यह लोकतंत्र और नागरिकों का अपमान...

छत्तीसगढ़ के किसान ने सरकारी कार्यालय के बाहर जहर खाकर की आत्महत्या

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -