जानें कामिका एकादशी का व्रत और कथा

Aug 05 2018 10:34 AM
जानें कामिका एकादशी का व्रत और कथा

श्रावण मास में कई तीज त्यौहार आ रहे हैं और आगे भी आने वाले हैं. ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कामिका एकादशी की जो 7 अगस्त को मनाई जाएगी. श्रावण की इस एकादशी को करने से सभी पापों का नाश होता है. इस व्रत को करने का भी खास महत्व है जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं. इस व्रत में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और उनकी आराधना करने से सभी कष्ट दूर होते हैं साथ ही बिगड़े काम सँवरने लगते हैं. जानते हैं कैसे करें इसका पूजन.

जानिए कब आ रही है सावन की शिवरात्रि, क्या है महत्व

कामिका एकादशी में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और कथा सुनी जाती है. कहा जाता है इसको सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त होता है. बता दें, इस बार कामिका एकादशी सावन में पड़ रही है इसलिए इसका खास महत्‍व है. इसकी खास कथा है जिसे आप यहां पढ़ सकते हैं. इस एकादशी के  बारे में युधिष्ठिर ने भगवान कृष्ण से पूछा था की श्रावण के कृष्ण पक्ष में कौन सी एकादशी होती है जिस पर उन्होंने ये कथा सुनाई. 

मनोरथ पूर्ति के लिए करें 6 धाराओं से भगवान शिव का अभिषेक

एक शहर में एक ठाकुर और ब्राह्मण रहते थे और दोनों ही एक दूसरे लड़ते रहते थे. ऐसे ही एक दिन ठाकुर ने ब्राह्मण को मार डाला और इसी के चलते ब्राह्मणों ने ठाकुर के घर खाना खाने से मना कर दिया. इससे ठाकुर को बुरा लगा और उसे अपनी गलती का एहसास हुआ जिसके चलते उसने एक ऋषि से इस पाप के निवारण का तरीका पूछा. इसी के बाद मुनी ने उन्हें कमिका एकदशी का उपवास करने के लिए कहा और ठाकुर उपवास करने लगा.

इसके बाद भगवान ने उसे स्वप्न में दरशण दिए और कहा कि तुम सभी पापों से मुक्त हो चुके हो, यानी इस व्रत को करने वाले के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं. इससे मन की नकारात्मकता नष्ट होती और हृदय में प्रकाश फैलता है.

यह भी पढ़ें..

राशि के अनुसार भगवान शिव को लगाएं भोग

जानिए कब है नाग पंचमी और उसका शुभ मुहूर्त

?