बंदूक से मुंह बंद करना सबसे बुरी जीत, कमल हासन

मंगलवार को हुई सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ट पत्रकार गौरी लंकेश की मौत से पूरे देश में हलचल मच गई है. बेंगलुरु मे हुई वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की निर्मम हत्या के बाद हर कही इसकी आलोचना हो रही है. पत्रकार गौरी लंकेश जिन्होंने अपनी साप्ताहिक पत्रिका (लंकेश पत्रिके )मे जिस निर्भीकता और बेबाकी से लिखती थी वो कट्टरपंथी विचारको और साम्प्रदायिक राजनीति पर घोर कुठाराघात होता था वो हमेशा आम जनता के पक्ष को लिखती थी.

जो शायद कर्नाटक के धर्मवादी राजनेताओ और कट्टरपंथी संगठनो को नागवार था यही कारण था कि उन्हे पिछले कुछ समय से लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही थी लेकिन कहते की सागर की लहर और पत्रकार की कलम को कोई नही रोक सकता. वो लगातार लिखती रही, लेकिन गौरी लंकेश की जिस तरह हत्या हुई है वो हमे तालिबानियो द्वारा अपहरण और हत्या किये गये अमेरिकी पत्रकार की घटना याद दिलाती है.

हर कोई उनकी हत्या को लेकर निंदा कर रहा है. हाल ही में इस पर अभिनेता कमल हासन ने कहा है कि बंदूक की गोली से किसी को चुप कर देना बहस का कोई हल नहीं है. कमल ने ट्विटर पर लिखा, "बंदूक से मुंह बंद कर बहस में जीतना सबसे बुरी जीत है. गौरी के निधन से दुखी सभी लोगों के साथ मेरी संवेदना." इस तरह से कमल हासन ने सामाजिक कार्यकर्ता और वरिष्ट पत्रकार गौरी लंकेश की मौत पर दुःख व्यक्त किया है. 

बॉलीवुड और हॉलीवुड से जुडी चटपटी और मज़ेदार खबरे, फ़िल्मी स्टार की जिन्दगी से जुडी बातें, आपकी पसंदीदा सेलेब्रिटी की फ़ोटो, विडियो और खबरे पढ़े न्यूज़ ट्रैक पर

डैडी: गैंगस्टर अरुण गवली की सच्ची कहानी से रूबरू करवाती है ये फिल्म!

बॉबी की सास ने खोले कई राज़... कहा "प्लास्टिक की बॉबी रिश्तों की डोर को क्या समझे?"

फिल्म में लालू यादव का किरदार निभाने के लिए उत्साहित है अभिनेता गोविन्द नामदेव

मेरी फिल्म है कोई नसबंदी का प्रचार नहीं, श्रेयस तलपड़े

सुबह-सुबह की चार बजे संजय ने मान्यता पर उड़ेल दिया अपना पूरा प्यार

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -