कलम उतनी ही तेज़

कलम उतनी ही तेज़

शायर हूँ........ तो ग़मो से क्यों करूँ परहेज़,
हालात जितने नाज़ुक.. कलम उतनी ही तेज़..!