कब्बडी की दिग्गज खिलाड़ियों में आती है यह टीम

भारत (India) और पाकिस्तान (Pakistan) भले ही एक समय पर एक दूसरा का हिस्सा रहे हों लेकिन आज इनके बीच एलओसी के साथ-साथ नफरत की एक बड़ी दीवार खड़ी है जिसे गिराने की काफी कोशिश की जाती है. माना जाता रहा है कि खेल दूरियों को कम करता है हालांकि इन दो देशों के बीच अलग ही जंग है जिसने खेलों में दोनों के बीच प्रतिद्वंदिता को और बढ़ा दिया है. कबड्डी (Kabaddi) भी उन्हीं खेलों में शामिल है जहां दोनों के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिलता है. कबड्डी फिलहाल ओलिंपिक में शामिल नहीं है लेकिन एशियन गेम्स (Asian Games) के अलावा वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट में इन दोनों देशों का वर्चस्व दिखता है, हालांकि भारत हमेशा 
पाकिस्तान से 20 ही साबित हुआ है. क्या कहते हैं रिकॉर्ड...

भारत और पाकिस्तान अब तक 13 बार आमने-सामने आए हैं लेकिन जीत हमेशा भारत की हुई है. एशियन गेम्स में भारत ने 1990 में पहली बार हिस्सा लिया और 2014 तक लगातार सात बार चैंपियन बनी. फाइनल में साल 1998 और 2006 में उसका सामना पाकिस्तान से हुआ था और दोनों बार ने खिताब अपने नाम किया. भारत अब तक 2004 और 2007 में वर्ल्ड चैंपियन बन चुका है लेकिन पाकिस्तान अब तक ऐसा नहीं कर पाया है. साउथ एशियन गेम्स (Asian Games) में अब तक दोनों का तीन बार फाइनल में सामना हुआ है और हर बार भारत की जीत हुई है. वहीं 2017 में अब तक इकलौते कबड्डी एशिया कप में भारत ने पाकिस्तान को मात दी.

जब पाकिस्तान की जीत पर इमरान खान ने किया था ट्वीटदोनों के बीच प्रतिद्वंदिता इतनी कड़ी है कि जब फरवरी में भारत की एक अनाधिकृत करार की टीम को पाकिस्तान ने मात दी तो उस देश में जश्न का माहौल बन गया.पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने अपने देश की कबड्डी टीम को अनाधिकृत विश्व कप कबड्डी चैंपियनशिप जीतने पर बधाई दी थी. इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान का भारत को हराना कितनी बड़ी बात थी. इस प्रतियोगिता के फाइनल में पाकिस्तान की टीम ने भारत की टीम को कड़े मुकाबले में मात दी थी. इस टूर्नामेंट को वर्ल्ड कबड्डी फेडरेशन मान्यता नहीं मिली थी. पाकिस्तान गई टीम को भी आधिकारिक नहीं माना गया था क्योंकि वह बिना सरकारी इजाजत के पाकिस्तान चली गई थी.

पाकिस्तान की जगह ईरान है नय प्रतिद्वंदी: विश्व कबड्डी का सरताज भारत एशियाई खेलों में 2018 में अपनी बादशाहत को बरकरार नहीं रख सका. भारत की पुरुष टीम को सेमीफाइनल में ईरान ने एकतरफा मुकाबले में 27-18 से हराकर कांस्य पदक तक ही रोक दिया. एशियाई खेलों में अब तक अजेय रहा भारत पहली बार स्वर्ण पदक पर कब्जा करने से चूक गया. हालांकि दिलचस्प यह रहा कि भारत अगर फाइनल में नहीं पहुंचा को सात बार से सिल्वर जीत रहा पाकिस्तान भी नाकाम रहा. उसे कोरिया ने मात दी. यह सिर्फ पुरुष टीम का ही हाल नहीं था बल्कि महिला टीम की बादशाहत भी खत्म हुई.

महिला कबड्डी के फाइनल में ईरान ने भारतीय महिला टीम को 27-24 के अंतर से मात दी. फाइनल मुकाबले में इरान की टीम शुरुआत से ही भारतीय टीम पर भारी पड़ी. भारत पिछले दो बार साल 2018 और 2014 में स्वर्ण पदक जीतने में सफल रहा था. ईरान की जीत में या भारतीय टीम की इस हार में प्रमुख भूमिका ईरानी कबड्डी टीम की कोच की रही जो भारतीय हैं. शैलजा जैन ईरानी कबड्डी टीम की कोच हैं.

भारत की दिग्गज पैरा एथलीट दीपा मलिक आज लेने वाली है संन्यास

बूढ़े हुए धोनी वाइफ ने शेयर की तस्वीर

क्रिकेट लवर्स के लिए बड़ी खबर, इंग्लैंड दौरे पर 3 नहीं, बल्कि 4-5 मैचों की हो सकती है टेस्ट सीरीज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -