कब तलक़ टटोलेंगे दाग़

कब तलक़ टटोलेंगे दाग़

ब तलक़ टटोलेंगे दाग़ एक दूजे के दामन में,
आओ चलो बैठकर कहीं गिरेबान अपने धो लें !
:
बहुत दे चुके तसल्ली हम वोट कि खातिर रियाया को,
किसी के भूखे बच्चे को खाना खिला सके तो बात बने !