प्याज तूने ये क्या किया

tyle="text-align:justify">राजू : भैया, जहर देना। 
दुकानदार : क्यों? 
राजू : मेरी पौने तीन किलो प्याज किसी ने चुरा ली। 
दुकानदार : बस कर पगले, रुलाएगा क्या ! बता छोटी बोतल दूं या बड़ी?
..........
राजू :"घर की मुर्गी दाल बराबर" कहावत को उदाहरण सहित समझाओ। 
पप्पू : देख मुर्गी का भाव Rs 140/kg और तुअर दाल का भाव Rs 140/kg  दोनों बराबर  तो ‘’घर की मुर्गी दाल बराबर" हो गई न कहावत सच ।
..........
लड़की वाले : भाई अपनी लड़की तो अमीर खानदान में ही देंगे। 
पंडित जी : तो हम भी ततो अमीर खानदान का ही रिश्ता लाये है भैया । अब और क्या शर्त है तुम्हारी ?
लड़की वाले : शर्त वर्त कुछ नाही है भैया ! बस उनके घर में रोज प्याज की सब्जी बनती हो।
..........
तुअर दाल और प्याज के बढ़े हुए दामों का दर्द इन लाइनों से जाहीर किया जा रहा है - 
दर्दे ए प्याज - हर किसी को नहीं मिलता यहां “प्याज’ जिंदगी में... खुशनसीब है वो जिनको है मिली “तुअर दाल’ जिंदगी में।
प्याज़ ए गजल - हमने सूंघी है कहीं प्याज की महकती खुशबू  हाथ से छू लो इन्हें पर लेने का नाम न लो सिर्फ एहसास रखो और रूह से महसूस करो प्याज का प्यार ही रहने दो, कोई दाम न दो  प्याज का मोल नहीं प्याज कोई प्यार नहीं  एक झटका सा है जो धीरे से लगा करता है  न ये रुकता है न झुकता न घटता है कभी  इसका दाम जो है वो दिन रात बढ़ा करता है  सिर्फ एहसास रखो और रूह से महसूस करो  प्याज का प्यार ही रहने दो, कोई दाम न दो  मुस्कराहट खिलती है दुकानदार के मुंह पर  खरीदार की जेबें तो दिन रात लुटा करती हैं  होंठ कुछ कहते नहीं कांपते होठों पर मगर  किस्सा-ए-प्याज ही इक बात हुआ करती है  सिर्फ एहसास रखो और रूह से महसूस करो प्याज का प्यार ही रहने दो, कोई दाम न 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -