ससुराल जाने से मना करने पर लड़की के परिवारवालों पर लगा 10 लाख का अर्थ दंड

हाल ही में जो अपराध का मामला सामने आया है वह सभी को हैरान कर गया है. जी दरअसल जो मामला हाल ही में सामने आया है वह जोधपुर का है जहाँ करीब दस साल पहले नाबालिग का विवाह करने और अब बालिग होने पर ससुराल भेजने का दबाव बनाने के मामले ने सभी को हैरानी में डाल दिया है.

मिली जानकारी के मुताबिक बालिग़ होने के बाद अब युवती ने अपने ससुराल जाने से साफ़ मना कर दिया है. मिली जानकारी के मुताबिक यह होने के बाद पंचों ने उसके परिवार पर 10 लाख का अर्थ दंड दिया है केवल इतना ही नहीं उन्होंने लड़की के परिवार को समाज से बहिष्कृत करने के बारे में धमकी तक दे दी. इस बात से परेशान होकर अंत में जब युवती को कुछ समझ नहीं आया तो युवती ने पुलिस से मदद मांगी है.

मिली जानकरी के मुताबिक 'मोटानिया नगर निवासी पेपी देवी ने परिवाद पेश कर बताया कि 2009 में मेरा विवाह शैतानाराम के साथ हुआ था. उस वक्त वह 11 वर्ष की थी. वर्तमान में बालिग हूं. अपनी इच्छा अनुसार अपना जीवन व्यतीत करना चाहती हूं. मेरे भाई दुर्गाराम का विवाह मेरी ननंद सुशीला पुत्री चेतनराम के साथ 2017 में हुआ.' इस मामले में यह भी बताया गया है कि सुशीला ससुराल में रह रही थी लेकिन 2019 से अपने पीहर जाकर रहने लगी. उसके बाद पीहर वालों के तंग परेशान करने पर उसने खुदकुशी करने की कोशिश तक की है. अब पुलिस इस मामले की जांच में लगी हुई है.

राजस्थान पुलिस ने पकड़ा 'गोल्डन बॉय', जिसकी कार में से निकला 2 किलो सोना

झारखंड पुलिस पर लगा शराब पीने का आरोप, IPS बोले- ब्लैक टी पी रहे थे

पति था दुकान पर इधर पत्नी ने लगा ली फांसी

Most Popular

- Sponsored Advert -