झारखण्ड में नक्सलियों का आतंक, अपने गांव लौटने से डर रहे लोग

रांची: झारखण्ड में नक्सलों के आतंक के कारण गुड़ाबांदा गांव के लोग अपने घर वापस आने से कतरा रहे हैं. कुछ साल पहले नक्सलियों ने गांव के लोगों को धमका कर भगा दिया था, साथ ही उनके खेतों पर भी कब्ज़ा कर लिया था. गांव से विस्थापित हुए एक आदमी ने आपबीती बताते हुए कहा की 2004 में नक्सलियों ने मेरा सब कुछ छीन लिया था, साथ ही मुझे मारने की भी धमकी दी थी.

पीएम मोदी का आज ओडिशा और छत्तीसगढ़ का दौरा, कई योजनाओं का करेंगे शिलान्यास

उन्होंने बताया कि अपने परिवार को बचाने के लिए मैंने गांव छोड़ने का फैसला लिया, लेकिन अब हमारे पास रहने के लिए कोई जगह नहीं है, हमारा खुद का खेत होते हुए भी हम दूसरे के खेतों में काम करने के लिए मजबूर हैं. जब उनसे पूछा गया कि क्या नक्सल स्वयं को ग्रामीणों के समर्थकों के रूप में मानते हैं, तो स्थानीय लोगों में से एक ने कहा कि उन्होंने 65-70 लोगों की हत्या कर दी, हम कैसे मानते हैं कि वे हमें नहीं मरेंगे ?

हाईटेंशन लाइन की चपेट में आने से ताजिये में आग, 50 लोग झुलसे

हालांकि, पुलिस ने क्षेत्र में नक्सलियों की उपस्थिति को खारिज कर दिया है, पुलिस ने कहा, उस क्षेत्र में कोई नक्सल नहीं है, लेकिन अगर ग्रामीण डरते हैं तो वे हमारे पास आ सकते हैं, हम उनकी मदद करेंगे, ग्रामीण आसानी से अपने घर वापस जा सकते हैं. यहां तक ​​कि निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य बिद्युत बरन महतो ने कहा कि यह क्षेत्र पहले रेड जोन में आता था, लेकिन अब स्तिथि बेहतर है.

खबरें और भी:-​

फ्लिपकार्ट के 'बिग बिलियन डेज' सेल की तारीख बताओ और स्पेशल ऑफर्स का लाभ पाओ

आरबीआई की नई गाइडलाइन, अब दो टुकड़ों वाला नोट भी चलेगा

अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के मौके पर संयुक्त राष्ट्र के महासचिव अक्टूबर में आएंगे भारत

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -