बोकारो से यूरेनियम जैसे पदार्थ की बरामदगी को लेकर झारखंड HC ने दिए ये आदेश

रांची: झारखंड उच्च न्यायालय ने तीन प्रमुख तकनीकी प्रतिष्ठानों को इस वर्ष जून में बोकारो पुलिस द्वारा जब्त किए गए चांदी-ग्रे पदार्थ के 4.5 किलोग्राम यूरेनियम की तहकीकात करने का निर्देश दिया है। झारखंड उच्च न्यायालय यह निर्देश बृहस्पतिवार को एक अपराधी की जमानत अर्जी पर सुनवाई के चलते दिए। जिस प्रकार से संदिग्ध यूरेनियम की तहकीकात पहले यूसीआईएल की एक टीम द्वारा न्यायिक मजिस्ट्रेट को सूचित किए बगैर की गई थी, जिसके कोर्ट में मामला लंबित है। उस पर गंभीर चिंता जताते हुए उच्च न्यायालय ने तकनीकी प्रतिष्ठानों को अभ्यास करने के लिए कहा।

वही भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र, मुंबई, इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र कलपक्कम, तमिलनाडु एवं राजा रमण उन्नत प्रौद्योगिकी केंद्र, इंदौर को नमूने का मुआयना करने के लिए बोला गया है। कृष्ण कांत राणा की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस एसके द्विवेदी की कोर्ट ने कहा कि तहकीकात के चलते पहले जादुगोरा में यूरेनियम कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (यूसीआईएल) की एक विशेषज्ञ समिति द्वारा सैंपल की तहकीकात की गई थी।

अदालत ने अपने आदेश में बताया कि बोकारो के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी और जहां मामला लंबित है। वहां के न्यायिक दंडाधिकारी की उपस्थिति में सामग्री एकत्र की जाएगी। जस्टिस ने बताया कि बरामद खनिज के संग्रहण की जानकारी प्रधान जिला न्यायाधीश बोकारो को दी जाएगी औतथार बोकारो के उपायुक्त की मौजूदगी में की जाएगी। सीलबंद लिफाफे में रखे पेन ड्राइव में प्रमुख प्रतिष्ठानों की रिपोर्ट उच्च न्यायालय के समक्ष पेश की जाएगी। मामले की सुनवाई 16 दिसंबर को होगी। अदालत ने आगे कहा कि जिला प्रशासन द्वारा पूरी कार्यवाही को वीडियो पर रिकॉर्ड किया जाएगा। अफसर यह सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त सुरक्षा उपाय भी प्रदान करेंगे कि संग्रह के वक़्त मौजूद न्यायिक अफसर विकिरण के संभावित प्रभावों से सुरक्षित हैं।

बहन कैटरीना की शादी में शामिल होने के लिए भारत पहुंचे भाई!

40 से अधिक प्रजाति के कबूतरों की कीमत जानकर उड़ जाएंगे आपके होश

भारत के आगे चीन ने मानी हार, जानिए क्या है पूरी कहानी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -