+

अब कूड़े में नहीं फेंके जा रहे बैधनाथ मंदिर के से निकले फूल-बेलपत्र, हो रहा ये सदुपयोग

Jul 21 2019 01:04 PM
अब कूड़े में नहीं फेंके जा रहे बैधनाथ मंदिर के से निकले फूल-बेलपत्र, हो रहा ये सदुपयोग

देवघर: झारखंड के देवघर जिले स्थित बाबा बैद्यनाथ मंदिर समेत परिसर के 21 मंदिरों में चढ़ाए गए बेलपत्र और फूल अब कूड़े में नहीं फेंके जाते, बल्कि इनको इकठ्ठा कर उनसे जैविक खाद बनाई जा रही है. इस अनूठी पहल से जहां आसपास के सरकारी दफ्तरों में लगे बगीचे और उद्यानों को जैविक खाद मुहैया कराई जा रही है, वहीं मंदिर प्रांगण के आसपास इकठ्ठा होने वाले गंदगी भी कम हो गई है.

बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर के सहायक प्रभारी आनंद तिवारी ने जानकारी देते हुए बताया है कि कुछ महीनों पूर्व तक देखा जा रहा था कि भक्तों द्वारा भारी मात्रा में चढ़ाए गए बेलपत्र और फूल बर्बाद हो रहे थे या कहीं कूड़े में फेंक दिए जा रहे थे, जिससे भक्तों की आस्था को भी ठेस पहुँच रही थी. इसी समस्या के निपटारे के लिए मंदिर प्रबंधन ने इन फूलों और बेलपत्रों से जैविक खाद बनाने की शुरुआत की गई. उन्होंने बताया है कि इसके लिए सबसे पहले देवघर कृषि विज्ञान केंद्र से संपर्क साधा गया. इसके लिए एक संयंत्र भी लगाया गया. 

देवघर कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक पी.के सनीग्राही ने प्रेस वालों को जानकारी देते हुए बताया कि, 'इसके लिए एक पावर ग्रिड की स्थापना की गई है. उन्होंने कहा कि औसतन प्रतिदिन मंदिर से 200 किलो फूल और बेलपत्र इकठ्ठा होते हैं. सावन में यह मात्रा बढ़कर 400 से 500 किलो प्रतिदिन तक पहुँच जाती है. इन्हे पहले सुखाया जाता है, फिर उसके पोषक तत्वों की जांच की जाती है. उसके बाद इससे जैविक खाद बनाई जाती है.'

टेकऑफ के लिए बिलकुल तैयार था विमान, तभी पंखे पर चढ़ गया एक नौजवान

अगर जा रहे हैं ITR दाखिल करने, तो ये जानकारी आपके लिए होगी फायदेमंद

बंद हो गया ये बड़ा बैंक, अपने पैसे निकालने के लिए करें ये काम