सोमवार को हुई जेट एयरवेज प्रबंधन की लंबी बैठक, आज भी जारी

Apr 16 2019 11:50 AM
सोमवार को हुई जेट एयरवेज प्रबंधन की लंबी बैठक, आज भी जारी

नई दिल्ली : जेट एयरवेज का संकट जल्द दूर होता नहीं दिख रहा है, क्योंकि कर्जदाताओं से पैसे न मिलने की वजह से उसे अब अपनी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें 18 अप्रैल तक के लिए रद्द करनी पड़ी है। जेट एयरवेज के सीईओ ने सोमवार को कंपनी के 20,000 से अधिक कर्मचारियों को पत्र लिखकर कहा, "अंतरिम वित्तपोषण अब तक नहीं मिला है, जिसके फलस्वरूप हमने अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें गुरुवार तक के लिए रद्द कर दी हैं।

वेतन न मिलने पर भड़के जेट एयरवेज के कर्मचारियों ने सड़कों पर उतरकर किया प्रदर्शन

आज हो रही है बैठक 

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बैंकों ने पहले पहले वादा किया था कि वे एयरलाइन को 1,500 करोड़ रुपये देंगे। वित्तीय संकट का समाधान करने के लिए जेट एयरवेज प्रबंधन और कर्जदाताओं की यहां सोमवार को लंबी बैठक चली और अब मंगलवार की सुबह बोर्ड की बैठक होगी। सीईओ ने कहा कि परिचालन के लिए अंतरिम वित्तपोषण को लेकर एयरलाइन कर्जदाताओं से बात कर रही है। 

विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने सचिव को दिये, जेट एयरवेज से संबंधित मुद्दों की समीक्षा करने के निर्देश

पीएम से की अपील 

इसी के साथ उन्होंने कहा कि कंपनी प्रबंधन आगे के कदमों को लेकर बोर्ड से दिशानिर्देश मांगेगा। सीईओ ने कर्मचारितयों को आश्वस्त करते हुए कहा, "जरूरी घटनाक्रमों को लेकर हम आपको जानकारी देते रहेंगे। सोमवार को जेट एयरवेज के पायलटों ने कंपनी को बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है। जेट के पायलटों ने प्रधानमंत्री से 20,000 नौकरियां बचाने में मदद करने का अनुरोध किया है.

विमानन सचिव को सुरेश प्रभु का निर्देश, जेट एयरवेज के मुद्दों की करें समीक्षा

इस माह अपने 16,000 कर्मचारियों को सैलरी नहीं दे पाएगी जेट एयरवेज

इस कारण जेट एयरवेज ने 15 अप्रैल तक रद्द की अंतराष्ट्रीय उड़ाने