सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों को करना चाहिए साथ काम : जयंत सिन्हा

नई दिल्ली : आज वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने यह कहा है कि देश में आम आदमी को समस्त स्वास्थ्य समाधान देने के लिए सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों को भी आपस में समझौता करना चाहिए क्योकि सरकार का राजकोषीय दायरा सीमित है. उन्होंने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए यह कहा है कि सरकार का दायरा सिमित लेकिन हमें अभी इस क्षेत्र में कई नवोन्मेष की जरुरत है.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि स्वास्थ्य पर देश का सार्वजनिक खर्च सकल घरेलू उत्पाद का केवल 6 फीसदी ही है और यह विश्व स्वास्थ्य संगठन के 7 फीसदी की सीमा के काफी नजदीक है. आमजन को ध्यान में रखते हु उन्होंने यह भी कहा है कि जान स्वास्थ्य को लेकर अभी बहुत से बदलाव करने की जरुरत है लेकिन हमारे सामने सरकारी खर्च एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रहा है. क्योकि यह सकल घरेलू उत्पाद का केवल 1 प्रतिशत ही है और यह दूसरे देशों के मुकाबले काफी कम है. और हम यह चाहते है की हम इसे जल्दी से जल्दी ठीक करले.

इसीलिए हम यह चाहते है कि सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों को साथ में मिलकर काम करना चाहिए. सिन्हा ने अपनी बात को जारी रखते हुए यह भी कहा है कि सामाजिक क्षेत्र, स्वास्थ्य, शिक्षा, प्रशिक्षण सुविधाएं देश के लिए बहुत ही अहम है लेकिन फ़िलहाल सरकार के पास धन की कमी है जिस कारण अन्य क्षेत्रो को भी मदद के लिए कहा जा रहा है.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -