राजस्थान के पाठ्यक्रम से हटा पं. नेहरू का नाम

जयपुर: राजस्थान सरकार ने अपने स्कूली पाठ्यक्रम में एक बदलाव कर दिया है। जिसके अंतर्गत उसने कांग्रेस के नेता और भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहलाल नेहरू का एक पाठ कक्षा 8 वीं की पाठ्य पुस्तक से हटा दिया है। दरअसल इस पुस्तक में पं. नेहरू को लेकर यह बात दी गई थी कि वे बैरिस्टर बनने के बाद स्वाधीनता संग्राम में भागीदारी करने के लिए कांग्रेस में शामिल हुए। इस पुस्तक से पं. नेहरू का अध्याय हटाने के बाद राजनीति तेज हो सकती है लेकिन सरकार का निर्णय सरकार का ही हो सकता है।

दरअसल पुस्तक के संशोधित संस्करण में स्वाधीनता संग्राम सेनानी हेमू कालानी का नाम भी शामिल किया गया है। इस मामले में यह बात कही गई है कि वीर सावरकर, महात्मा गांधी, भगतसिंह, बालगंगाधर तिलक, सुभाषचंद्र बोस आदि नामों का उल्लेख किया गया है। मगर पं. नेहरू का अध्याय हटा दिया गया है।

दरअसल यह कार्य राजस्थान राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान द्वारा तैयार किया गया। कांग्रेस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि स्कूली पाठ्यक्रम से इतिहास पुरूष राष्ट्र निर्माताओं का नाम हटाने वाली सरकार स्वयं भी हट जाती है। उन्होंने कहा कि सरकार ने यह कदम अच्छा नहीं रखा। इसे शर्मनाक भी कहा जा सकता है। 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -