इस नक्षत्र में जन्मे लोग होते हैं जिद्दी, हमेशा बढ़ते रहते हैं आगे

ज्योतिषशास्त्र को माने तो कुल 27 नक्षत्र होते हैं। वहीं इनमे से मूल नक्षत्र 19वां नक्षत्र माना जाता है। जी दरअसल ऐसा कहा जाता है कि इस नक्षत्र में जन्मे बच्चों को कुछ समय तक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। जी हाँ और इस नक्षत्र को लेकर ऐसी भी मान्यता है कि इसमें जन्मे बच्चे पिता पर भारी होते हैं और इसके चलते इस नक्षत्र की शांति पूजा भी कराई जाती है। आप सभी को बता दें कि मूल नक्षत्र का स्वामी ग्रह केतु है। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं इस नक्षत्र से जुडी खास बातें।

कहा जाता है इस नक्षत्र में जन्मे लोग स्वभाव के जिद्दी और अपने काम के प्रति काफी ईमानदार होते हैं। जी हाँ, इसी के साथ ये लोग अपना ध्यान हमेशा लक्ष्य पर केंद्रित रखते हैं और तब तक इन्हें लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए तब तक ये राहत की सांस नहीं लेते। इसके अलावा इस नक्षत्र में जन्मे लोगों के विचार काफी दृढ़ होते हैं और इनके निर्णय लेने की क्षमता अच्छी होती है। ऐसे लोग बहुत ही कम उम्र में इस बात का ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं कि इन्हें लाइफ में क्या करना है। आपको बता दें कि भारत के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी का भी जन्म मूल नक्षत्र में ही हुआ है। ऐसे लोग दूसरों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

ये काफी दयालु भी होते हैं जिस कारण कोई भी इनका फायदा उठा लेता है। वहीं मूल नक्षत्र के लोग अपने भविष्य को लेकर काफी गंभीर रहते हैं और हर समय आगे बढ़ने के बारे में सोचते रहते हैं। इसी के साथ ये लोग समय से पहले अपने कार्यों को पूरा करने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोग चुनौतियों से घबराते नहीं है और बड़े ही धैर्य से हर मुश्किल का सामना कर लेते हैं। केवल यही नहीं बल्कि ये लोग अपने परिवार की हर छोटी बड़ी जरूरत का ख्याल रखते हैं। इसके अलावा यह लोग दोस्त काफी सोच समझकर बनाते हैं और उनकी मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।

सपने में दिखे आग तो होता है शुभ संकेत, लेकिन है अशुभ भी

शनिदेव के प्रकोप से बचने के लिए काली तुलसी की माला से करें इन मन्त्रों का जाप

कब है मौनी अमावस्या, जानिए शुभ मुहूर्त और नियम

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -