जम्मू कश्मीर: ईद पर आतंक का साथ देने वालों के साथ क्या सलूक होना चाहिए ?

Aug 22 2018 12:00 PM
जम्मू कश्मीर: ईद पर आतंक का साथ देने वालों के साथ क्या सलूक होना चाहिए ?

श्रीनगर: जम्मू कश्मीर में आज बकरीद के मौके पर कई प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतर आए और पाकिस्तान के व् खूंखार आतंकी संगठन आईएसआईएस (इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक और सीरिया) के झंडे फहराए, वहीं कुछ अज्ञात लोगों ने भी सुरक्षा बलों पर पत्थरबाज़ी भी की. यह सारा वाकिया उस समय हुआ जब शहर के निवासी सुबह की नमाज़ पढ़ने के लिए एक स्थानीय मस्जिद पर एकत्रित हुए थे.

जम्‍मू-कश्‍मीर: भाजपा कार्यकर्ता को आतंकियों ने घर में घुसकर गोली मारी

प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए जब सुरक्षाबल घटनास्थल पर पहुंचे तो उपद्रवियों ने सुरक्षाबलों पर भी पत्थर बरसाने शुरू कर दिए. वहीं 
 जम्मू-कश्मीर के शॉपियन जिले के ज़ज़्रिपोरा गांव में आतंकवादियों ने विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) फयाज अहमद पर गोलियां चलाई, जब अहमद को अस्पताल ले जाया गया, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी. 

कश्मीर में सेना के ऑपरेशन में तीन आतंकी ढेर, 597 अब भी बाकी

इसके अलावा पुलवामा जिले के राख-ए-लीटर गांव निवासी शब्बीर अहमद भाट की भी आतंकियों ने घर में घुसकर हत्या कर दी, बताया जा रहा है कि शब्बीर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता थे. सरकारी न्यूज़ एजेंसी एएनआई ने प्रदर्शनकारियों की कुछ तस्वीरें जारी की हैं, जिसमे प्रदर्शनकारी मूसा आर्मी के काले झंडे लिए हुए थे. उल्लेखनीय है कि यह मूसा आर्मी ज़ाकिर मूसा से सम्बंधित है, जो कि आतंकी संगठन अल-क़ायदा से जुड़े एक आतंकी संगठन का सरगना है. आपको बता दें कि इस तरह की घटनाएं जम्मू कश्मीर में अक्सर होती रहती है, लेकिन सरकार अब तक इनपर लगाम लगाने में नाकाम रही है. सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर देशवासियों की रक्षा के लिए अपनी जान को जोखिम में डालने वाले ये सैनिक, आखिर क्यों जम्मू कश्मीर के पत्थरबाजों को जवाब नहीं दे पाते हैं. 

खबरें और भी:-

जम्‍मू-कश्‍मीर: भाजपा कार्यकर्ता को आतंकियों ने घर में घुसकर गोली मारी

जम्मू कश्मीर: चेनाब नदी में गिरी श्रद्धालुओं से भरी कार, 11 यात्री मृत

जम्मू कश्मीर: बारामुला से घुसपैठ की कोशिश नाकाम, 1 आतंकी ढेर