जम्मू में जारी किया गया हाई अलर्ट, आतंकियों द्वारा किया जा सकता है हमला

Aug 04 2020 02:18 PM
जम्मू में जारी किया गया हाई अलर्ट, आतंकियों द्वारा किया जा सकता है हमला

जम्मू: 5 अगस्त को होने वाले रामनगरी अयोध्या में भूमिपूजन और जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के एक वर्ष पूर्ण होने पर राज्य में हाई अलर्ट जारी किया गया है. सरहद से लेकर आतंरिक सुरक्षा और राष्ट्रीय हाइवे पर कड़ी सुरक्षा कर दी गई है. ऐसा संदेह है कि दहशतगर्द 5 अगस्त को कश्मीर और देश के अन्य भागों में किसी बड़े हमले को दस्तक दे सकते हैं. ऐसे परिस्थिति में सेना और बीएसएफ द्वारा यहां एलओसी और बॉर्डर पर सुरक्षा और अधिक बढ़ा दी गई है. 

वहीं पुलिस की तरफ से राष्ट्रीय हाइवे और आतंरिक सुरक्षा को स्ट्रांग किया गया है. अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर और एलओसी से राष्ट्रीय हाइवे को जोड़ने वाले लिंक रोड पर पुलिस के साथ अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं. इसके साथ-साथ इन क्षेत्रो को जोड़ने वाले सभी नाकों पर भी पुलिस के साथ अर्धसैनिक बल तैनात किए गए हैं. स्पष्ट रूप से निर्देश दिए गए हैं कि सीमांत क्षेत्रो में आने जाने वाले वाहनों की गहनता से खोजबीन की जाये. हर आने जाने वाले पर कड़ी निगरानी रखी जाए. उधर बीएसएफ की तरफ से लखनपुर से लेकर सुंदरबनी तक रात्रि के वक़्त बीएसएफ की तरफ से गश्त बढ़ाई गई है.

साथ ही भारतीय सेना के प्रवक्ता का कहना है कि राजोरी पुंछ की एलओसी पर पूर्व से ही सेना हर वक़्त सतर्क रहती है. 5 अगस्त को लेकर दहशतगर्द हमला करें, इसका कोई खास इनपुट तो नहीं. किन्तु एलओसी से घुसपैठ करने का दहशतगर्द बेहद प्रयास कर रहे हैं. इसे रोकने के लिए सेना पुरी तरह से सतर्क और सक्षम है. इसके अतिरिक्त रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट और जम्मू के मुख्य चौक-चौराहों पर सुरक्षा को भी स्ट्रांग किया गया है. सभी स्थानों पर पुलिस के साथ अर्धसैनिक बल तैनात हैं. आने वाले दो दिन पुलिस के लिए बहुत चुनौतीपूर्ण रहेंगे. इसके लिए पुलिस अधिकारीयों को अपने अपने क्षेत्राधिकार में उपस्थित रहने के लिए कहा गया है. वही पुलिस की ओर से पूरी व्यवस्था कई दी गई है.

महात्मा गांधी ने नहीं सुना था नेहरू का ऐतिहासिक भाषण, आजादी के जश्न से भी थे दूर

आगरा: पर्यटकों के लिए भी बनाई जाए एक अलग नीति

जम्मू में अगवा हुए जवान का नहीं मिला कोई सुराग, अपहरणकर्ताओं से बहन ने की ये अपील