मौलाना की मौत पर जामिया टाइम्स ने फैलाया 'झूठ'

शहडोल: मध्य प्रदेश के शहडोल जिले से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है यहाँ जंगल से 26 सितंबर 2022 को एक अधजला शव मिला। मृतक की पहचान मौलाना अताउल्लाह कासमी के रूप में हुई। इसी बीच जामिया टाइम्स नाम की एक प्रोपेगेंडा वेबसाइट ने इस क़त्ल को बजरंग दल से जोड़ दिया। PFI पर प्रतिबंध से भड़के असदुद्दीन ओवैसी ने इस मामले में मोदी सरकार को भी घसीट लिया। मौलाना का क़त्ल एक महिला के साथ अश्लील हरकत की वजह से होने के बात सामने आई है। हत्या के अपराधी  का बजरंग दल के साथ संबंध होने से भी पुलिस ने इनकार किया है। प्राप्त हुई खबर के मुताबिक, मौलाना झाड़-फूँक करता था। पुलिस के मुताबिक, शिव शंकर नाम का व्यक्ति अपने परिवार की एक महिला की तबीयत खराब होने पर उसे कासमी के पास झाड़-फूँक के लिए ले गया था। मगर, मौलाना ने झाड़-फूँक की आड़ में महिला से अश्लील हरकतें की। इसका बदला लेने के लिए शिवशंकर ने उसे मौत के घाट उतार दिया। मौलाना झारखंड का रहने वाला था।

वही इस घटना को लेकर जामिया टाइम्स ने ट्वीट करते हुए लिखा, झारखंड के रहने वाले मौलाना अताउल्लाह कासमी को बजरंग दल कार्यकर्ता ने जलाकर जंगल में फेंक दिया। जब पुलिस ने घटना से बजरंग दल का संबंध होने से मना किया तो जामिया टाइम्स ने लिखा, “DSP शहडोल राघवेंद्र द्विवेदी ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि अपराधी बजरंग दल से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि वह झाड़-फूँक के सिलसिले में पहले भी अपराधी के घर आया करता था।” वही जामिया टाइम्स के पश्चात् मुस्लिम नेताओं ने भी हिंदू संगठनों के खिलाफ जहर उगलना आरम्भ कर दिया। कट्टरपंथी इस्लामवादी संगठन पीएफआई (PFI) पर प्रतिबंध लगाने से नाराज AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने फर्जी खबरों के आधार पर बजरंग दल पर प्रतिबंध लगाने की माँग की। उन्होंने ट्वीट कर पूछा, “क्या मोदी सरकार इस समूह पर प्रतिबंध लगाएगी?”

वही असम के कांग्रेस विधायक अब्दुल खलीक ने लिखा, “क्या हमारे प्रधानमंत्री मोदी जी में आतंक फैलाने वाले इस संगठन पर प्रतिबंध लगाने की हिम्मत है?” बांग्लादेश (जहाँ हिंदुओं का दमन आम है) के जहीर शमसेरी ने भी दुष्प्रचार को आगे बढ़ाते हुए ट्वीट किया, “अंतरराष्ट्रीय समुदाय इस मामले पर ध्यान दे। झारखंड (भारत) निवासी मौलाना अताउल्लाह कासमी साहब को बजरंग दल/RSS ने जला दिया और जंगल में फेंक दिया।” प्राप्त एक रिपोर्ट के मुताबिक, मृतक अताउल्लाह कासमी झारखंड के पलामू जिले का निवासी था। वह मध्य प्रदेश के शहडोल जिले में झाड़-फूँक का काम करता था। कासमी 21 सितंबर से लापता था तथा उसे अंतिम बार शहडोल जिले के पड़मनिया गाँव की ओर अपने परिचित की मोटरसाइकिल पर जाते हुए देखा गया था। अगले दिन (22 सितंबर 2022) को थाना गोहपारू में अताउल्लाह की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। शहडोल जिले के सिंहपुर थाना अंतर्गत ग्राम पड़मनिया के जंगल में 26 सितंबर 2022 को अताउल्लाह खान का अधजला शव बरामद करने के बाद पुलिस ने इस मामले में शिवशंकर यादव नाम के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया किया। बुधवार (29 सितंबर 2022) को पुलिस ने बताया कि शिवशंकर यादव (28 वर्ष) ने पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है। अपराधी ने बदला लेने के लिए अताउल्लाह खान की हत्या की थी। रिपोर्ट के अनुसार, अपराधी अपने परिवार की एक महिला की तबीयत खराब होने पर उसे अताउल्लाह खान के पास झाड़-फूँक के लिए ले गया था। मगर, उसने झाड़-फूँक की आड़ में महिला से अश्लील हरकतें की। इसका बदला लेने के लिए शिवशंकर ने उसे मौत के घाट उतार दिया तथा मोटरसाइकिल के पेट्रोल से उसको जला दिया। तत्पश्चात, उसकी मोटरसाइकिल नवलपुर सोन नदी में फेंक दी। शिवशंकर यादव पेशे से ड्राइवर। ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है जो यह बताती हो कि वह बजरंग दल से जुड़ा था। जामिया टाइम्स ने यह भी माना कि उसके पास बजरंग दल के साथ यादव के जुड़े होने के दावे की पुष्टि करने के लिए कोई सबूत नहीं है। बावजूद उसने हिंदू संगठन के खिलाफ प्रोपेगेंडा को आगे बढ़ाया।

मां के बाहर जाते ही कमरे में घुस जाता था चाचा और फिर..., 6 वर्षीय की बातें सुन हर कोई रह गया दंग

12 वर्षीय बच्चे के साथ 'निर्भया' जैसी दरिंदगी.., अस्पातल में जिंदगी की जंग लड़ रहा मासूम

'मैं खुश नहीं हूं, शांति चाहिए', लिखकर फंदे से झूल गई ये मॉडल

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -