पाक का झूठ एक बार फिर हुआ उजागर, अख़बार में इश्तेहार देकर फंडिंग मांग रहा जैश

Mar 12 2019 08:15 PM
पाक का झूठ एक बार फिर हुआ उजागर, अख़बार में इश्तेहार देकर फंडिंग मांग रहा जैश

इस्लामाबाद: पाकिस्तान की पनाह में पल रहे आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को लेकर पाकिस्तानी सेना और सरकार किस कदर झूठ बोलती है, इस बारे में एक बड़ा खुलासा हुआ है. दरअसल, जैश एक प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है. मगर इसी जैश का पाकिस्तान से अपना खुद का अखबार निकलता है और इतना ही नहीं उसी अखबार में जैश को चंदा देने के लिए इश्तेहार छापा जाता है.

पानी रोकने पर बोला पाक- ऐसा हुआ तो अंतरराष्ट्रीय अदालत का रुख करेंगे

इससे मिलें वाला चंदा बाकायदा पाकिस्तानी बैंक खाते में जाता है. रंग बदलना किसे कहते हैं, ये समझना हो तो इसके लिए पहले पाकिस्तान को समझना होगा. जिसने बालाकोट में भारतीय वायुसेना की स्ट्राइक के बाद कहा था कि जैश का चीफ मसूद अज़हर पाकिस्तान में हैं. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने बयान देते हुए कहा था कि मसूद पाकिस्तान में है और काफी बीमार है. वो इतना बीमार है कि चल फिर भी नहीं सकता.

पाकिस्तान से अमेरिका का सवाल, जैश पर अब तक क्या हुआ एक्शन

लेकिन फिर अंतरराष्ट्रीय दबाव के कारण एक हफ्ते में ही पाकिस्तान अपनी ही धुरी पर 180 डिग्री घूम गया. लब्बोलुआब ये कि आतंकवादियों को बचाने के लिए पाकिस्तान किसी भी सीमा तक जा सकता है. जैश को विदेशी फंडिंग भी मिलती है. दरअसल, अल-क़लम, पेशावर से छपने वाला एक साप्ताहिक उर्दू अखबार है. जिसे जैश के चीफ मसूद अजहर का मुखपत्र माना जाता है और इसी के माध्यम से आतंकी संगठन जैश अपने नापाक मंसूबे को पूरा करने के लिए आर्थिक सहायता एकत्रित करता है. जैश के इस साप्ताहिक अखबार का ऑनलाइन पोर्टल है. जिसमें अधिकतर भारत और जम्मू-कश्मीर से सम्बंधित खबरें रहती हैं. आतंकियों को मुजाहिदीन कहकर उनकी प्रशंसा की जाती है.

खबरें और भी:-

30 साल का हुआ 'www', गूगल ने बनाया खास डूडल

UN की बैठक में बोले पाक के एक्टिविस्ट्स, पाकित्सानी आर्मी ही उकसाती है कश्मीरियों को

आतंकवादियों को बांग्लादेश की भूमि का इस्तेमाल नहीं करने देंगी हसीना