जयपुर बिजली विभाग में बड़ा घोटाला, दफ्तर से ही चल रहा था ये गोरखधंधा

जयपुर: डिस्कॉम में भ्रष्ट्राचार की परतें खुलने के बाद नया मामला सामने आया है, ये उपभोक्ताओं को फर्जी बिल पकड़ाने का है. ऊर्जा विभाग के उच्च अधिकारियों की नाक के नीचे यह हरकत डिस्कॉम के अधिकारी द्वारा की जा रही थी. मंथली बिलिंग सिस्टम के तहत मौके पर जाकर बिलिंग करने का नियम है, किन्तु डिस्कॉम प्रबंधन की ढिलाई के कारण कार्यालय में बैठकर बिल जारी करने का मामला प्रकाश में आया हैं. 

राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान में 177 पद खाली, इस पद के लिए करें आवेदन

जयपुर शहर के आगरा रोड स्थित पुराना घाट फीडर पर अफसरों और कर्मचारियों ने मिलकर दफ्तर में बैठकर ही सैंकड़ों बिल जारी कर दिए. जब उपभोक्ताओं के हाथ में यह बिल पहुंचे तो बिल राशि देखकर उनके होश फाख्ता हो गए. अब डिस्कॉम दफ्तर में मीटर दूरस्त करने वालों की लंबी कतार लगी हुई है. मामले में कर्मचारियों ने अपने ही कार्यालय के कमरे पर ताला लटकाकर उसके फोटो ले लिए और दर्शा दिया कि उपभोक्ताओं के घरों पर ताले लगे हुए थे. दफ्तर में कर्मचारियों को यहां-वहां खड़ा किया और उनके फोटो चस्पा कर ऐसा दर्शाया कि ये सब मौके पर जाकर आए हैं.

इन नए नियमों के तहत अब फ्लाइट कैंसल या लेट होने पर रिफंड होंगे पैसे

जयपुर डिस्कॉम के पुराना घाट फीडर पर अफसरों-कर्मचारियों ने 19 फरवरी को शाम 6 से रात 11 बजे तक इस करतूर को अंजाम दिया. ऑन द स्पॉट बिलिंग के तहत उन्होंने उपभोक्ताओं के घर जाकर बिजली के मीटर की फोटो खींचनी होती है, किन्तु ऑफिस के ताले और कार्मिकों के फोटो के साथ मैनेजर झूठा सबूत छापते रहे. औसत बिल के साथ ऐसा दर्शाते रहे कि कर्मचारी मौके पर जाकर आए हैं, उपभोक्ताओं के घरों पर ताले लटके हुए थे जबकि कर्मचारी, उपभोक्ताओं के घर गए ही नहीं बल्कि कार्यालय में ही बैठकर उपभोक्ताओं को मनमर्जी के बिल थमा दिए. मामला सामने आने के बाद पूरे विभाग में सन्नाटा हैं. 

खबरें और भी:-

डॉलर के मुकाबले 1 पैसे की मजबूती के साथ 71.21 के स्तर पर खुला रुपया

पिछले दिनों गिरावट के बाद आज मजबूती के साथ खुले बाजार, फिलहाल ऐसी स्तिथि

HC से सोनिया राहुल को बड़ा झटका, खाली करना होगा हेराल्ड हाउस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -