इतनी ठोकरे देने के लिए शुक्रिया

tyle="text-align:justify">इतनी ठोकरे देने के लिए शुक्रिया ए ज़िन्दगी, 
चलने का न सही सम्भलने का हुनर तो आ गया।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -