इतने नज़दीक से आईने को देखा न करो -'अज़ीज़' वारसी

इतने नज़दीक से आईने को देखा न करो...

इतने नज़दीक से आईने को देखा न करो
रुख़-ए-ज़ेबा की लताफ़त को बढाया न करो

दर्द ओ आज़ार का तुम मेरे मुदावा न करो
रहने दो अपनी मसीहाई का दावा न करो

हुस्न के सामने इज़हार-ए-तमन्ना न करो
इश्क़ इक राज़ है इस राज़ को इफ़्शा न करो

अपनी महफ़िल में मुझे ग़ौर से देखा न करो
मैं तमाशा हूँ मगर तुम तो तमाशा न करो

सारी दुनिया तुम्हें कह देगी तुम्हीं हो क़ातिल
देखो मुझ को ग़लत अंदाज़ से देखा न करो

कैसे मुमकिन है के हम दोनों बिछड़ जाएँगे
इतनी गहराई से हर बात को सोचा न करो

तुम पे इल्ज़ाम न आ जाए सफ़र में कोई
रास्ता कितना ही दुश्वार हो ठहरा न करो

वो कोई शाख़ हो मिज़राब हो या दिल हो 'अज़ीज़'
टूटने वाली किसी शै का भरोसा न करो.

-'अज़ीज़' वारसी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -