IT मंत्रालय का बड़ा बयान, कहा- "सोशल मीडिया कर्मचारियों को कभी..."

IT मंत्रालय का बड़ा बयान, कहा-

IT मंत्रालय ने फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर कर्मचारियों को जेल की धमकी रिपोर्ट को सिरे से खारिज करने का आदेश जारी कर दिया है। मंत्रालय ने बोला कि गवर्नमेंट ने कभी भी किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के कर्मचारी को जेल भेजने की धमकी नहीं दी है।

मंत्रालय ने बोला कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म इंडिया के कानूनों और भारत के संविधान का पालन करने के लिए बाध्य हैं, जैसे कि इंडिया में अन्य सभी व्यवसायों के लिए है। जैसा कि संसद में  बोला गया कि सोशल मीडिया के यूजर गवर्नमेंट पीएम या किसी भी मंत्री की निंदा कर सकते हैं, लेकिन हिंसा को बढ़ावा देना, सांप्रदायिक विभाजन और आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं कर सकते है। दरअसल सरकार ने ट्विटर को सैकड़ों पोस्ट, अकाउंट और हैशटैग हटाने आदेश दिया था जिसमें नियमों का उल्लंघन होते हुए देखा गया है। 

IT मंत्रालय ने बोला कि हाल ही में सोशल मीडिया से संबंधित दिशानिर्देशों को यूजर्स के लिए एक मजबूत शिकायत निवारण तंत्र बनाने के लिए प्लेटफार्मों की जरुरत होती है। गवर्नमेंट की ओर से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के कर्मचारियों को लिखित या मौखिक किसी भी प्रकार से जेल भेजने के लिए नहीं धमकाया गया है। सरकार निंदा और असंतोष का स्वागत कर सकती है। लेकिम सोशल मीडिया के दुरुपयोग से हिंसा और आतंक को बढ़ावा मिलता है।

उपेंद्र कुशवाहा का बड़ा बयान, कहा- RLSP का काफिला अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए काम करेगा

सिख फॉर जस्टिस ने UN के नाम पर दिया लाखों का चंदा

'लाल सिंह चड्ढा' का नया लुक शेयर करते हुए करीना ने आमिर खान को किया बर्थडे विश, लिखी ये बात