हमारे लोकतंत्र के लिए यह एक दुखद दिन है: जयंत सिन्हा

नई दिल्ली: जयंत सिन्हा ने कांग्रेस को निशाना साधते हुए कहा की नेशनल हेराल्ड मामले में कांग्रेस द्वारा संसद में जारी अवरुद्ध, आज लोकतंत्र के लिए दुखद है. व्यक्तियों से संबंधित मुद्दे पूरे सिस्टम को ख़राब कर रहे है. 

"यह हमारे संविधान में निर्धारित किया गया है जो कि हमारी लोकतांत्रिक प्रणाली है. यह अच्छी तरह से काम नहीं कर पा रही है." वित्त राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने तीसरे दिन बाधित कार्य के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार ठहराया. जयंत सिन्हा का मानना है कि यह 'बदले की राजनीति' पर राज्यसभा भांग करना ठीक नहीं. महत्वपूर्ण वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) विधेयक 1 अप्रैल 2016 में लागु करने के लिए राज्यसभा की मंजूरी जरुरी है.

सिन्हा ने दुखद स्वर में कहा, "व्यक्तियों और दलों से संबंधित मुद्दे पूरे सिस्टम को नीचे ला रहे हैं. लोगों के कारोबार लगातार बंद है. मुझे लगता है हमारे लोकतंत्र के लिए यह एक दुखद दिन है. हमें एक संसद की आवश्यकता है जो कार्यरत रहे है."

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -