ब्रेक्सिट से आईएसआईएस में छाया नया जोश, योरप की आर्थिक रफ्तार पर मार करने की तैयारी

ब्रिटेन : ब्रिटेन मेें जनमत संग्रह के बाद ब्रिटेन और योरपीय संघ पर होने वाले आर्थिक प्रभाव के चलते आईएसआईएस ने प्रसन्नता जाहिर की है। दरअसल आईएसआईएस का मत है कि इस तरह से वह योरप के देशों को कमजोर कर देगा। उसने एक बार फिर हमले की बात कही है इस बार उसने संकेत दिया है कि उसका निशाना बर्लिन और ब्रसेल्स में होगा। मीडिया रिपोर्टस और खासतौपर मिरर में प्रकाशित जानकारियों के अनुसार यह बात सामने आई है कि आतंकी जिहादी टेलीग्राम द्वारा आर्थिक अराजकता फैलाने को लेकर जमकर तारीफ की गई।

इस मामले में ईयू जनमत संग्रह के बाद इस तरह की स्थिति सामने आई है। आईएसआईएस के आतंकियों को कहा गया है कि वे योरप पर हमले करें। जिससे इसकी आर्थिक ताकत कमजोर हो जाए। ब्रिटेन ने 43 वर्ष के बाद ऐतिहासिक जनमत संग्रह मेें योरपीय संघ को छोड़ने के लिए मतदान किया गया। जिसमें 72 प्रतिशत मतदान हुआ। मतदान के तहत 1975 के निर्णय को पलट दिया गया। मगर ब्रिटेन के नेताओं ने योरपीय आर्थिक समुदाय में बने रहने के लिए वोटिंग की हालांकि कालांतर में इसे योरपीय यूनियन कह दिया गया।

ब्रिटेन के सेनानायकों ने इस मामले में कहा है कि एक बार फिर आईएसआईएस योरप में अपनी ताकत बढ़ा सकता हैै। यह ब्रिटेन के विदेशी कार्यालयों, दूतावासों, ब्रिटिश नागरिकों को प्रभावित करने वाले हमले कर सकता है। हालांकि आईएसआईएस के खलिफा कहे जाने वाले बगदादी के मारे जाने की खबरों के बाद यह माना जा रहा था कि यह संगठन काफी कमजोर हो सकता है और इसके आतंकी बिखर सकते हैं मगर अब यह बात सामने आ रही है कि यह योरप के लिए फिर से खतरा बनकर सामने आ गया है।

जिसके लिए ब्रिटेन और अन्य देश अपनी तैयारियां कर रहे हैं। यही नहीं यूरो 2016 के फुटबाॅल मैचों पर भी आतंकी साए का असर देखा गया हालांकि पुलिस ने आयरलैंड और बल्जियम के बीच पैदा होने वाले इस तरह के खतरों को टाल दिया। मगर अभी भी योरप में हमले का अंदेशा है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -