जब फैंस की भीड़ में फस जाते थे इरफ़ान तो इस तरह मदद करते थे बाबिल

जब फैंस की भीड़ में फस जाते थे इरफ़ान तो इस तरह मदद करते थे बाबिल

इरफान खान के निधन के उपरांत से उनके बेटे बाबिल हमेशा पिता की याद में फोटोज या इरफान से जुड़ा किस्सा शेयर करते रहते हैं। अपने नए पोस्ट में बाबिल ने कहा है कि जब इरफान खान को देखने के लिए भारी भीड़ जुट गई तो उन्होंने स्थिति को किस तरह से संभाला। बाबिल ने अपने इंस्टाग्राम पर कई फोटोज शेयर की हैं। उन्होंने लिखा कि- 'तो कहानी यह है कि मैं "करीब करीब सिंगल" की कैमरा टीम को असिस्ट कर रहा था। गंगटोक में सड़क का एक शॉट चाहिए था लेकिन लोग सेट और बाबा के चारों ओर भीड़ लगाते थे। कुछ ही समय बाद शूट करना असंभव लगने लगा।‘

बाबिल ने आगे लिखा कि 'तनुजा (चंद्रा, निर्देशक) मैम ने मुझे एक गिटार सौंपा और बताया कि 100 मीटर दूर जाओ और परफॉर्म करना शुरू कर दिया जाए। भीड़ को हटाने के लिए उन्होंने जोर से बोले पैक अप। और फिर मैंने गिटार के साथ गाना शुरू कर दिया। भीड़ इस ओर बढ़ गई। जैसे ही मैंने गाना शुरू किया उन्होंने प्राकृतिक लाइट में सीन को खत्म किया। सच्ची कहानी है यह। मजाकिया है।' अपनी बात को जारी रखते हुए बाबिल ने लिखा कि 'सभी फिल्ममेकर्स इसे इंटर्न के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं।' इसके साथ उन्होंने लिखा कि 'यह दुखद लेकिन सच है कि हमारी राजनीति और चुनिंदा समाचारों, मीडिया आउटलेट्स में से अधिकांश, जो हमारे लोगों को सूचना वितरित करते हैं वो इसे नियंत्रित कर रहे हैं।‘

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इसी वर्ष अप्रैल महीने में इरफान खान का देहांत हो गया था। वो बीते 2 वर्षों से न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर से जूझ रहे थे। हाल ही में उनके प्रशंसकों ने सोशल मीडिया पर नाराजगी जताई कि उनके पसंदीदा एक्टर की कब्र पर घास और जंगली पौधे उग गए है। फोटोज वायरल होने के उपरांत कब्र की साफ सफाई की गई और गुलाब के फूलों से सजाया गया। इरफान की पत्नी सुतापा सिकदार ने तस्वीर शेयर की थी।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

So the story is: I was assisting with the camera team on QQS. There was a shot needed on a Gangtok street but the people would crowd around the set and Baba, soon after a few takes it started seeming impossible to shoot the sequence. So, Tanuja ma’am handed me a guitar and said go 100m away and start performing. She called out a loud “PACK UP!” for the crowd to hear and then I started singing with the guitar and the crowd dissipated towards this new divertissement. As I sung they quickly shot the sequence using natural light and finished the job. True story. Funny. Experience to use for all filmmakers, use your interns in the most creative ways. (The sad truth is most of the times our politics and selected news and media outlets that control information being distributed to our people also are running a similar divertissement.)

A post shared by Babil (@babil.i.k) on

वीडियो शेयर कर सारा गुरपाल ने की अपने अनफेयर एव‍िक्शन पर बात

जल्द जेल जा सकती हैं कंगना!, लगा धर्म के आधार पर नफरत फैलाने का आरोप

Aashram Chapter 2: ख़त्म हुआ इंतज़ार, इस तारीख को रिलीज़ होगा 'आश्रम' का दूसरा सीजन