अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021: इन 6 तरीकों से भारतीय महिलाऐं बचा सकती है टैक्स

Mar 04 2021 02:55 PM
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2021: इन 6 तरीकों से भारतीय महिलाऐं बचा सकती है टैक्स

आज के दौर में महिलाऐं पुरुषों से किसी भी काम में कम नहीं है, हर परिस्थिति में वो निडर बनाकर डटी रहती। महिलाओं के सम्मान को सलाम एवं उनके आत्मविश्वास को बढ़ावा देने के लिए विश्व भर में 8 मार्च का दिन अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के तौर पर मनाया जाता है। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के इस अवसर पर हम कामकाजी महिलाओं को कुछ ऐसे सुझाव दे रहे हैं जिन्हें अपनाकर वह वेतन में कट रहा टैक्स बचा सकती हैं। वर्तमान वक़्त में मध्यम श्रेणी की कामकाजी महिलाएं अपने वेतन में से टैक्स की कटौती को लेकर परेशान रहती हैं किन्तु अब उन्हें इस बात की चिंता करने की आवश्यकता नहीं क्योंकि कुछ ढंग ऐसे हैं, जिनके माध्यम से वे अपना टैक्स बचा सकती हैं।

बीमा के तहत टैक्स कटौती का विकल्प:- हालांकि बीमा एक सुरक्षा साधन है किन्तु कर बचाने के लिए यह कभी भी प्राथमिक साधन नहीं रहा है। किन्तु फिर भी यह लाइफ इंसोरेंस के अंतर्गत धारा 80सी एवं 10 (10डी) के तहत तथा हेल्थ  में 8०डी के तहत कर छूट का लाभ प्रदान करता है।

यूलिप:- नई पीढ़ी के यूलिप के प्रचलन में आने तथा लोगों के मध्य सबसे पसंदीदा निवेश विकल्प होने के साथ-साथ यह धारा 80सी के तहत कर छूट भी देते हैं। करीब बगैर किसी प्रीमियम आवंटन शुल्क तथा पॉलिसी एडमिनिस्ट्रेशन शुल्क के साथ यूलिप्स एक कम कीमत वाला निवेश उत्पाद है। आईआरडीएआई ने वित्त प्रबंधन शुल्क की उच्चतम सीमा 1.35 फीसदी निर्धारित की है, ऐसे में इसके सभी प्रोडक्ट में यह रेट 1 से 1.35 प्रतिशत के मध्य है। 

पीपीएफ:- सामान्य भविष्य निधि ( Public provident fund ) एक सबसे प्रचलित तथा विश्वसनीय लंबी अवधि निवेश एवं कर बचत योजनाओं में से एक है। पीपीएफ पर ब्याज की दर सरकार द्वारा निर्धारित की जाती है तथा इसकी लॉक-इन अवधि 15 साल है, इसलिए यह निवेशक को कर-मुक्त मुनाफा प्रदान करता है। 

बीमा का चयन करना:- नौकरीपेशा महिलाओं के लिए कर बचत के विकल्पों की रणनीति बनाते वक़्त, 80डी एक ऐसा सबसे अहम सेक्शन है जिस पर जरूर ध्यान दिया जाना चाहिए। यह हर साल 25,000 रुपये तक के स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान करने पर टैक्स योग्य आय में कटौती की सुविधा देता है। हेल्थ इंसोरेंस हर शख्स और विशेष रूप से वेतनभोगी महिलाओं के लिए एक बुनियादी आवश्यकता है क्योंकि स्वास्थ्य बीमा के लिए प्रीमियम का भुगतान करने से न सिर्फ आपको बीमा कवर प्राप्त होता है, बल्कि कई सारे कर फायदे भी प्राप्त होते हैं।

धारा 80C के तहत कटौती:- पीपीएफए एनपीएसए यूलिप कुछ ऐसे इन्वेस्टमेंट ऑप्शन जिन्हें आप अपना पैसा लगाने के लिए चुन सकते हैं। ये प्रत्येक वर्ष आपका 1,50,000 रुपए तक कर बचा सकते हैं। वे महिलाएं, जो अपने रिटायर्ड के दिनों के लिए बचत करना चाहती हैं, उन्हें अपने निवेश के विकास पर सक्रिय तौर पर ध्यान देना चाहिए। 

'मंदिरों की मरम्मत के लिए अनुदान देते थे शाहजहां-औरंगज़ेब..', गलत इतिहास पढ़ाने पर NCERT को लीगल नोटिस

मंगोलिया 1 मई से शुरू करेगा अपनी अंतरराष्ट्रीय यात्री उड़ानें

स्वच्छता के बाद अब इस मामले में भी No-1 बना इंदौर, केंद्रीय मंत्री ने जारी की सूची