कॉफ़ी का इतिहास जानकर भावुक हो जाएंगे आप

कॉफी के इस्तेमाल का जश्न मनाने और बढ़ावा देने के लिए हर वर्ष 1 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस (International Coffee Day) सेलिब्रेट किया जाता है। बहुत से लोग मानते हैं कि कॉफी उनके स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल रही है , इसलिए इस दिन लोगों को इस पेय के विभिन्न लाभों के बारे में शिक्षित करने का काम भी किया जा रहा है। अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस पर इन श्रमिकों और कॉफी उद्योग से जुड़े लोगों की कड़ी मेहनत और कोशिशों को भी पहचाना जाता है।

महत्व: इसमें शामिल क्षेत्रों और श्रमिकों की संख्या को ही याद रखा जाता है, यह दिन न केवल पेय को संजोने के लिए सेलिब्रेट किया जाता है बल्कि इस इलाके और इससे जुड़े लोगों के साथ हुए अन्याय के लिए आवाज उठाने के लिए भी सेलिब्रेट किया जा रहा है। इस दिन का उद्देश्य कॉफी के निष्पक्ष व्यापार को बढ़ावा देना और दुनिया भर में कॉफी उत्पादकों की स्थिति को सुर्खियों में लेकर आना है।

दिन का इतिहास: पहली बार अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस 2015 में  सेलिब्रेट किया गया था। अंतर्राष्ट्रीय कॉफी संगठन (International Coffee Organisation – ICO) ने 2014 में सभी कॉफी प्रेमियों को दिन समर्पित करने का निर्णय कर लिया, लेकिन पहला आधिकारिक कॉफी दिवस 2015 में मिलान (Milan) में शुरू कर दिया गया। हालांकि, अलग-अलग देश अलग-अलग तारीखों पर अपने-अपने राष्ट्रीय कॉफी दिवस मनाते हैं। 1997 में वापस, ICO ने पहले चीन में अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस सेलिब्रेट किया और बाद में 2009 में ताइवान में मनाया। नेपाल ने पहला अंतर्राष्ट्रीय कॉफी दिवस 17 नवंबर, 2005 को सेलिब्रेट किया।

फुटबॉल विश्व कप के दौरान दर्शकों को दिखानी होगी ये चीज

अंतर्राष्ट्रीय अनुवाद दिवस आज, जानिए इस दिन का महत्त्व और इतिहास

यूक्रेन के 4 इलाकों पर कल कब्ज़ा कर लेगा रूस.., पुतिन का ऐलान

न्यूज ट्रैक वीडियो

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -