सेना दिवस: भारत के पास है दुनिया की सबसे बड़ी “स्वैच्छिक” सेना, जानिए रोचक तथ्य

आज सेना दिवस है ऐसे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं भारतीय सेना के बारे में कुछ चौकाने वाले तथ्य जिन्हे आप सभी ने कभी सूना या पढ़ा नहीं होगा।

* भारतीय सेना दुनिया की सबसे ऊँची रणभूमि “सियाचिन ग्लेशियर” को नियन्त्रण करती है, जिसकी ऊंचाई समुन्द्र तल से 5000 मीटर है।

* भारत के पास दुनिया की सबसे बड़ी “स्वैच्छिक” सेना है।

* सभी सेवारत और रिज़र्व सेना के पास अपनी सेवा देने या ना देने का अधिकार होता है। जी हाँ और यह अधिकार भारत के संविधान में भी दर्ज है। हालाँकि इस संविधान को कभी भी प्रयोग में नहीं लाया गया।

* Indian Army द्वारा High Altitude Warfare School (HAWS) दुनिया में सबसे संभ्रांत सैन्य प्रशिक्षण चलाया जाता है। इसमें अमेरिका, इंग्लैंड और रूस के विशेष सेना बल ने अफ़ग़ानिस्तान पर आक्रमण करने से पहले हिस्सा लिया था।

* भारत ने 1970 और 1990 में परमाणु परिक्षण किया था। जी हाँ और इस परिक्षण के बारे में दुनिया की सबसे ताकतवर ख़ुफ़िया एजेंसी सी।आई।ए। को भी नहीं पता चला था और यह सी।आई।ए की अब तक की सबसे बड़ी असफलता है।

* भारत में अन्य सरकारी संगठनों और संस्थाओं के विपरीत Indian Army में किसी भी व्यक्ति की जाती या धर्म नहीं देखा जाता।

* भारत और पाकिस्तान के बीच हुई “लोंगेवाला की लड़ाई” में केवल दो भारतीय सेना के जवान ही शहीद हुए थे। जी हाँ और इस लड़ाई पर मशहूर बॉलीवुड फिल्म “बॉर्डर” बनी है।

* लोंगेवाला की लड़ाई भारत और पाकिस्तान के बीच दिसम्बर 1971 में हुई थी और इस लड़ाई में 120 Indian Army के जवानों ने 2000 पाकिस्तानी सेना के जवानों को घुटने टेकने के लिए मज़बूर कर दिया था।

* सेना का सबसे रोचक तथ्य यह है कि इस लड़ाई में Indian Army के पास सिर्फ एक जीप थी, जिस पर एम्40 की राइफल लगी थी और दूसरी तरफ पाकिस्तानी सेना 2000 की तदाद में टैंकों से लेस थी।

* Indian Army द्वारा चलाया गया ऑपरेशन राहत (2013) अब तक सबसे बड़ा लोगों को बचाने वाला मिशन था। वहीं ऑपरेशन राहत मिशन को भारतीय वायु सेना द्वारा चलाया गया था।

* भारतीय सेना के पास घुड़सवार सेना की रेजिमेंट भी है। जी हाँ और ऐसी रेजिमेंट दुनिया में सिर्फ तीन ही हैं।

* भारतीय वायु सेना का ताजीकिस्तान में आउट-स्टेशन है।

* भारतीय सेना ने भारत के सबसे ऊँचे पुल का भी निर्माण किया है। यह लदाख वैली में द्रास और सुरु नदियों के बीच बना हुआ है। इस पुल का निर्माण भारतीय सेना द्वारा अगस्त 1982 में किया गया था।

सेना दिवस पर बोले आर्मी चीफ नरवणे- बॉर्डर पर घुसपैठ की फ़िराक में PAK के 400 आतंकी

भीम आर्मी को अखिलेश ने दिया झटका, नहीं करेंगे गठबंधन.., चंद्रशेखर बोले- उन्होंने दलितों का अपमान किया

आज अपना 74वां सेना दिवस मना रही इंडियन आर्मी, पीएम मोदी ने इस अंदाज में दी बधाई

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -