तीन माह में पहली बार गिरा औद्योगिक उत्पादन

देश का औद्योगिक बैरोमीटर माना जाने वाला औद्योगिक उत्पादन (आईआईपी) गत अप्रैल में 0.8 प्रतिशत घट गया. यह सब मैन्युफैक्चरिंग और केपिटल गुड्स उत्पादन में आई गिरावट के कारण हुआ, जबकि पिछले साल अप्रैल में सूचकांक 3.01 था. फरवरी और मार्च में लगातार बढ़त के बाद आईआईपी में गिरावट दर्ज की गई. इससे पहले गत वर्ष नवंबर से जनवरी तक तीन माह तक औद्योगिक उत्पादन घटा था.

केंद्रीय सांख्यिकीय कार्यालय (सीएसओ )की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार सूचकांक में शामिल 22 प्रमुख उद्योगों में से 9 का उत्पादन अप्रैल में घटा था. खनन और बिजली क्षेत्र का उत्पादन बढ़ा लेकिन मैन्युफैक्चरिंग क्षेत्र का उत्पादन 3.1 फीसदी गिरा, जबकि पिछले साल अप्रैल में 3.9 फीसदी वृद्धि हुई थी.

बता दें कि इंडेक्स में 75 फीसदी हिस्सेदारी मैन्युफैक्चरिंग की ही है. कैपिटल गुड्स में सबसे ज्यादा 24.9 फीसदी गिरावट हुई. सीएसओ के अनुसार अप्रैल 15 से मार्च 16 की वद्धि में आईआईपी की रफ़्तार 2.4 प्रतिशत रही थी. बीते वर्ष खनन क्षेत्र में 2.2 फीसदी, मैन्युफैक्चरिंग में 2 फीसदी और बिजली में 5 .7 प्रतिशत की वृद्धि हुई.

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -