किन्नरों को पहचान पत्र देने वाला प्रदेश का पहला जिला बना इंदौर

इंदौर: मंगलवार को नगर निगम इंदौर एवं विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा किन्नर समुदाय को शासन की जनकल्याणकारी योजनाओ की खबर देने हेतु पंढ़रीनाथ स्थित मराठी समाज के मंगल सदन सभागृह में समारोह का आयोजन किया गया। क्योकि किन्नर भी समाज एवं देश का भाग हैं, इसी बात को ध्यान में रखते हुए इन्हे भी सरकारी स्कीम जैसे आधार कार्ड, पहचान पत्र, राशन पर्ची, आयुष्मान कार्ड से जोड़ा जाना आवश्यक है।

वही संस्था परम पूज्य रक्षक आदिनाथ वेलफेयर एंड एजुकेशनल सोसाइटी की अध्यक्ष सुश्री रुपाली जैन बीते दो सालों से किन्नर समुदाय के अफसरों के हित हेतु कार्य कर रही हैं। वे किन्नरों को स्व सहायता समूह की स्कीम से जोड़ने की कोशिश कर रही थीं। अतः उनके आग्रह पर नगर निगम आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल के निर्देश पर मंगलवार को प्रथम बार इंदौर जिले के तकरीबन 200 किन्नरों को स्व सहायता समूह से जोड़ने की दिशा में एक सार्थक कार्य किया गया।
 
वही अवसर पर ही 30-30 किन्नरों के तीन स्व सहायता समूह बनाये गए। समारोह के साथ साथ ही एक शिविर भी लगाया गया जहाँ हाथो हाथ किन्नरों के आधार कार्ड तथा उनके उत्थान के लिए अन्य स्कीम में जोड़ा गया। किन्नरों के गुरु से अपील की गई कि वे अपने डेरों के अन्य तथा किन्नरों जिनके आधार कार्ड अभी नहीं बने है उनके आधार कार्ड बनने के बाद उन्हें भी स्व सहायता समूह से जोड़कर आत्मनिर्भर भारत का भाग बन एक मिसाल पेश करे।

शराब पीकर और तेज गाड़ी चालाने वालों की अब खैर नहीं, पुलिस को मिलने वाला है 'इंटरसेप्टर व्हीकल'

रिलीज हुआ निया शर्मा और राहुल वैद्य का नया गाना 'गरबे की रात'

Air India को मिला नया महाराज, 18000 करोड़ में TATA के सिर सजा ताज

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -