येरुशलम को इजरायल की राजधानी बनाने पर भारत का बयान

अमेरिका ने यरुशलम को इजरायल की राजधानी घोषित कर दिया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इस ऐलान के बाद से अरब देशों में ट्रंप के इस फैसले की कड़ी आलोचना हो रही है. इस घोषणा पर भारत का रुख भी पूछा गया. जिस पर प्रतिक्रिया देते हुए हुए भारत ने आज कहा कि फलस्तीन पर भारत का रुख उसके अपने विचारों और हितों के अनुरूप है और किसी तीसरे देश के रुख से इस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है.

यरुशलम को इजरायल की राजधानी के तौर पर मान्यता देने की अमेरिका की घोषणा पर भारत का क्या रुख है, इस संबंध में पूछे गए एक सवाल पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, ‘‘फलस्तीन पर भारत का रुख स्वतंत्र और सुसंगत है. यह हमारे विचारों और हितों के अनुरूप है ना कि किसी तीसरे देश के नजरिए के अनुरूप है.’’  

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चुनाव के समय जो वादा किया था, उसी को निभाते हुए बुधवार देर रात ट्रंप  ने ऐलान किया कि अमेरिका यरुशलम को इजराइल की राजधानी के रूप में मान्यता देता है. ट्रंप ने कहा था, “अतीत में असफल नीतियों को दोहराने से हम अपनी समस्याएं हल नहीं कर सकते. आज मेरी घोषणा इसराइल और फ़लस्तीनी क्षेत्र के बीच विवाद के प्रति एक नए नज़रिए की शुरुआत है.”

“हिन्दू लड़किया जो कपड़े पहनती हैं, वो शर्मनाक है”- प्रिंसिपल

पद्मावती के विरोध पर शत्रुघ्न का सम्मान

नगर निगम प्राइवेट कंपनी से करवाएगी टैक्स वसूली

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -