ट्रेनों पर बसों को लादकर ले जाने का वीडियो वायरल, क्या है हकीकत ?

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे दिन प्रतिदिन तरक्की कर रहा है। बीते कुछ सालों में इसने कई उदाहरण पेश किए हैं। अब रेल मंत्रालय ने एक राज्य से दूसरे राज्य में बसें भेजने की शानदार पहल की है, जिससे ट्रांसपोर्ट के बड़े खर्चे पर अंकुश लग गया है। बड़ी तादाद में चंडीगढ़ भेजी जाने वाली बसों को पहली बार ट्रेन में रखकर रवाना किया गया है। ये बसें कर्नाटक स्थित बेंगलुरु के डोड्डाबल्लापुर से रवाना की गईं। 

 

इस पहल का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। रेल मंत्रालय ने बसों को ट्रेन से ले जाने का एक वीडियो साझा किया है, जिसमें यात्री बसों को पहली बार ट्रेन के जरिए बेंगलुरु से चंडीगढ़ रवाना किया गया। इस तरह इंडियन रेलवे ने कार्गो के एक नए उपखंड पर जोर दिया है। स्वदेशी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म Koo ऐप पर सामने आए एक वीडियो में रेलवे की पटरी पर बसों को लेकर ट्रेन दौड़ती नज़र आ रही हैं। इसकी जानकारी खुद रेल मंत्रालय ने दी है। रेल मंत्रालय ने Koo करते हुए लिखा है कि 'ट्रेन में बसें !! भारतीय रेलवे ने कर्नाटक के बेंगलुरु के डोड्डाबल्लापुर से चंडीगढ़ के लिए पहली बार यात्री बसों को परिवहन करके माल ढुलाई की एक नई धारा पर कब्जा कर लिया है।'

 

यहाँ तक कि केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने भी बड़ा ही दिलचस्प वीडियो साझा किया है, जिसमें ट्रेन बड़ी संख्या में बसों को सैर कराती दिखाई दे रही हैं। ट्रेन में बसें! पहली बार यात्री बसों का परिवहन। भारतीय रेल द्वारा अशोक लीलैंड की बसों को डोड्डाबल्लापुर से चंडीगढ़ तक हिमाचल सड़क परिवहन निगम के इस्तेमाल के लिए ट्रेन के जरिए ले जाया गया। रेलवे कुछ नए प्रोजेक्ट्स के जरिए रेलवे के इतिहास पर बेमिसाल छाप छोड़ने का प्रयास कर रहा है। इस तरह, इतिहास में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में बसें बगैर सड़क पर चले हजारों मील का सफर तय कर रही हैं। ये बसें हिमाचल पथ परिवहन निगम की हैं, जिन्हें पहली बार ट्रेन परिवहन के जरिए चंडीगढ़ के लिए रवाना किया गया है। इस तरह, इंडियन रेलवे ने पहली बार यात्री बसों का परिवहन करके माल ढुलाई की एक नई धारा पर कब्जा कर लिया है।

'मंदिर भगवान का घर है और मस्जिद केवल इबादत की जगह, ज्ञानवापी पर लागू नहीं होता 1991 का कानून'

दोपहर 12 बजे अचानक अन्धकार में डूब गया 'लखनऊ' और शुरू हो गई झमाझम बारिश, आसपास के जिले भी तरबतर

लखीमपुर खीरी: मज़ार पर जमा हुई भीड़ ने कुचल डाली लाखों की फसल, किसान ने विरोध किया तो पीटा

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -