चीन से सीमा पर तनातनी के बीच चीन जाऐंगे महामहिम

पेइचिंग: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 24 से 27 मई तक चीन की यात्रा पर होंगे। इस दौरान वे शीर्ष चीनी नेतृत्व के साथ वार्ता भी करेंगे। उल्लेखनीय है कि राष्ट्रपति की यह यात्रा बेहद महत्वपूर्ण है। दरअसल बीते 6 वर्ष में किसी भी भारतीय राष्ट्रपति की चीन की यह पहली यात्रा होगी। इस मामले में विदश मंत्रालय ने कहा कि मुखर्जी द्वारा चीनी समकक्ष राष्ट्रपति की चीन की पहली यात्रा कही जा रही है। विदेश मंत्रालय द्वारा कहा गया कि प्रणब मुखर्जी द्वारा अपने समकक्ष राष्ट्रपति शी चिनफिंग के आमंत्रण पर चीन की यात्रा पर जाऐंगे।

उल्लेखनीय है कि चीन और भारत के बीच सीमा पर बढ़ी तनाव की स्थितियों के बाद भारत के राष्ट्रपति की यह महत्वपूर्ण यात्रा मानी जा रही है। विदेश मंत्रालय द्वारा इस मामले में कहा गया है कि मुखर्जी अपने चीनी समकक्ष राष्ट्रपति शी चिनफिंग के आमंत्रण पर जीन पहुंचेंगे। इसके पूर्व वर्ष 2010 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल चीन पहुंची थी। इस मामले में महामहिम प्रणब मुखर्जी ने कहा कि 24 मई को औद्योगिक चीन शहर ग्वांगझू में वे 24 मई को दाखिल होंगे। वे यहां पर भारतीय मूल के व्यवसायियों से भी भेंट करेंगे।

इस मामले में यह जानकारी सामने आई है कि इस प्रांत के टॉप चीन अधिकारियों के शामिल होने की संभावना है। महामहिम राष्ट्रपति 25 मई को पेइचिंग पहुंचेंगे। महामहिम राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का पेइचिंग में स्वागत किया जाएगा। यह स्वागत द चाइनीज पीपल्स फ्रेंडशिप एसोसिएशन फॉर फॉरेन कंट्रीज़ द्वारा किया जाएगा।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -