एक तरफ बेरोज़गारी, दूसरी तरफ तेजी से बढ़ रही नौकरी छोड़ने वालों की तादाद.., IT कंपनियां परेशान

नई दिल्ली: देश का युवा एक तरफ बेरोज़गारी से जूझ रहा है, वहीं इसी बीच भारतीय आईटी सेक्टर (IT Sector) इन दिनों एक नई समस्या The Great Resignation का सामना कर रहा है. दरअसल, TCS, Infosys और Wipro जैसी दिग्गज IT कंपनियां कर्मचारियों को अपने साथ जोड़े रख पाने में नाकाम हो रही हैं. इन कंपनियों में हाल के दिनों में Attrition Rate यानी नौकरी छोड़कर जाने वाले लोगों की तादाद में भारी इजाफा हुआ है. ये कंपनियां इसकी भरपाई के लिए बड़े पैमाने पर फ्रेशर्स को हायर कर रही हैं.
 
तीनों दिग्गज भारतीय IT कंपनियों ने बुधवार को दिसंबर तिमाही का परिणाम जारी किया था. इसमें कंपनियों ने बढ़ते Attrition Rate के बारे में जानकारी दी गई थी. नंबर वन भारतीय IT कंपनी TCS में दिसंबर तिमाही में नौकरी छोड़कर जाने वालों की दर बढ़कर 15.3% हो गई है. इससे एक तिमाही पहले यानी जुलाई-सितंबर 2021 के दौरान यह दर 11.9% दर्ज की गई थी. TCS का कहना है कि, यह दर IT इंडस्ट्री में सबसे कम है, मगर इसके बाद भी इसे अच्छा नहीं कहा जा सकता है.

इसी प्रकार दूसरे नंबर की IT कंपनी इंफोसिस को देखें तो यहां समस्या कुछ ज्यादा गंभीर है. इंफोसिस में दिसंबर तिमाही में कर्मचारियों के नौकरी छोड़ने की दर 25.5% तक बढ़ चुकी है. ये दर सितंबर 2021 तिमाही में 20.1% रही थी. एक साल में Infosis में नौकरी छोड़कर जाने की रफ़्तार 11 फीसदी बढ़ चुकी है. Infosis इसकी भरपाई के लिए फ्रेशर्स को हायर करने की योजना बना रही है. कंपनी ने रिजल्ट में बताया कि वह 55 हजार फ्रेशर्स को हायर करने वाली है. वहीं, Wipro के भी यही हाल हैं. इस कंपनी में नौकरी छोड़कर जाने की दर सितंबर 2021 तिमाही में 20.5% दर्ज की गई थी, जो दिसंबर 2021 तिमाही में बढ़कर 22.7% हो गई है. Wipro ने इसकी पूर्ति करने के लिए 30 हजार नए लोगों को भर्ती करने का प्लान बनाया है.

'आतंकियों का समर्थन' कर रहा था Twitter, जैसे ही कोर्ट पहुंचा मामला अक्ल आ गई ठिकाने

विधानसभा चुनावों में बड़ा 'गेम' कर सकता है Twitter, पहले से विवादों में है ये 'साइट'

क्या नए नोटों पर छपेगी नेताजी बोस की फोटो ? PM मोदी के पास पहुंचा पत्र

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -