आखिर कौन हैं इंडियन आइडल 12 में लग्जरी कार और 25 लाख रुपये जीतने वाले पवनदीप राजन?

देश के सबसे पॉपुलर सिंगिंग रियलिटी शो में से एक इंडियन आइडल का 12वां सीजन खत्म हो चुका है। शो की ट्रॉफी पवनदीप राजन ने अपने नाम की। वह शो के विनर बने और उन्हें मिली लग्जरी कार और 25 लाख रुपये। आप सभी को बता दें कि दूसरे स्थान पर ट्रॉफी की मजबूत कंटेस्टेंट मानी जा रही अरुणिता कांजीलाल रहीं, वहीँ तीसरा स्थान सायली कांबले को मिला। इसके बाद चौथे स्थान पर मोहम्मद दानिश रहे, और पांचवे पर निहाल रहे, वहीँ अंत में रहीं शनमुखाप्रिया, जिन्हे सबसे कम वोट मिले। आपको हम यह भी बता दें कि इस बार फिनाले की रेस में कंटेस्टेंट्स को अपनी जगह बनाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा।

जी दरसल सभी ने अपनी परफॉर्मेंस पर एकाग्रता बनाए रखकर फाइनल तक का सफर तय किया। यह पहला मौका था जब इंडियन आइडल के फिनाले में 5 की जगह 6 कंटेस्टेंट्स ने जगह बनाई। इस लिस्ट में पवनदीप राजन, मोहम्मद दानिश, शनमुखाप्रिया, अरुणिता कांजीलाल, निहाल और सायली कांबले ने फिनाले तक का सफर तय किया। वैसे अब बात करें विनर के बारे में तो पवनदीप का जन्म 27 जुलाई 1996 को उत्तराखंड के चंपावत में हुआ था। उनके पिता सुरेश राजन भी सिंगर हैं, जो उत्तराखंड के लोकल फंक्शन्स और पब्लिक इवेंट्स में गाते हैं। वहीँ उनकी दो बहनें भी हैं, जिन्हें इंडियन आइडल 12 पर उनके साथ देखा गया था। इसके अलावा पवनदीप ने शो द वॉइस इंडिया में को भी जीता हैं। वहीँ उन्होंने यूनिवर्सल म्यूजिक ग्रुप के साथ अपना पहला गाना रिलीज करने का कॉन्ट्रैक्ट भी साइन किया था। आपको यह भी बता दें कि अपने जीते हुए कॉन्ट्रैक्ट से पवनदीप ने अपने डेब्यू गाने 'यकीन' को साल 2015 में रिलीज किया था। इसी के साथ ही उन्हें उत्तराखंड का यूथ ब्रांड अम्बासडर भी चुना गया था।

साल 2016 में पवनदीप ने एरोन हारुन राशिद के साथ काम किया था और उनकी एल्बम Chholiyar में दो गाने रिलीज किए थे। उसके बाद साल 2017 में पवनदीप राजन ने फिल्म रोमियो एन बुलेट में 'तेरे लिए' नाम का गाना गाया था। आपको जानने के बाद हैरानी होगी कि पवनदीप राजन ने 2-ढाई साल की उम्र में यंग तबला प्लेयर का अवॉर्ड जीता था। वह अब तक करीब 13 देशों और भारत के 14 राज्यों में करीब 1200 शोज कर चुके हैं।

क्या मर्द-क्या औरत।।। कांग्रेस नेता उदित राज की पोस्ट पर हर कट्टरपंथी ने दी गालियां

खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी।।। असहयोग आंदोलन में भाग लेने वाली पहली कवियत्री थी 'सुभद्रा'

बोरिस जॉनसन ने कहा- "अफ़ग़ानिस्तान से बाहर निकलने के अमरीका के फ़ैसले।।।"

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -