भारतीय सेना होगी और भी सशक्त, मोदी सरकार ने रूस के साथ किया बड़ा करार

Feb 14 2019 08:57 AM
भारतीय सेना होगी और भी सशक्त, मोदी सरकार ने रूस के साथ किया बड़ा करार

नई दिल्ली: देश की सेना को और सशक्त करने की दिशा में केंद्र सरकार ने एक और बड़ा कदम उठाया है। पहले मोदी सरकार ने 72400 असॉल्ट राइफल खरीदने का निर्णय लिया था और इसके लिए अमेरिका की कंपनी से अनुबंध किया था, इसके बाद अब मोदी सरकार ने रूस के साथ रक्षा क्षेत्र में एक और बड़ा निर्णय लिया है। बुधवार देर शाम तक चली बैठक में मोदी सरकार ने रूस के साथ मिलकर 7.47 लाख राइफलों के निर्माण का अनुबंध करने का फैसला लिया है। महत्वपूर्ण बात यह है कि इन राइफलों को उत्तर प्रदेश के अमेठी में तैयार किया जाएगा। अमेठी में राइफलों को बनाने के लिए एक प्लांट लगाया जाएगा, जहां इन्हे तैयार किया जाएगा।

वेतन 15 हजार रु, लाइब्रेरी ट्रेनी के लिए निकाली वैकेंसी

यह अनुबंध कराररूस की कलाश्निकोव कंसर्न और भारत की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड के बीच हुआ है, जो कि मिलकर एके-47 की तीसरी पीढ़ी की राइफल एके-203 को तैयार करेंगी। माना जा रहा है कि दोनों देशों के मध्य आधिकारिक समझौते के बाद इस अनुबंध पर दस्तखत किए जा सकते हैं। इस अनुबंध के बाद ही राइफल की कीमतों और कब तक यह बनकर तैयार होगी, इन तमाम बातों की जानकारी सामने आएगी। उल्लेखनीय है कि इन राइफलों का निर्माण पूरी तरह से मेक इन इंडिया अभियान के तहत होगा। इसके लिए अभिरूचि पत्र मांगे गए थे, जिसके बाद इसे अनुमति दे दी गई है।

डॉलर के मुकाबले मजबूत स्तिथि में पहुंचा रुपया

आपको बता दें कि इससे पहले भारत ने 72400 असॉल्ट राइफलों को खरीदने का अनुबंध अमेरिका की कंपनी से किया था। यह अनुबंध फास्ट ट्रैक प्रोक्योरमेंट के तहत किया गया था। जिसके तहत एसआईजी जॉर असॉल्ट राइफल्स को लेकर अमेरिका के साथ अनुबंध किया गया है। इस करार की महत्वपूर्ण बात यह है कि एक साल के अंदर 72400 राइफलें भारत को मिल जाएंगी, जो कि 7।62 एमएम की राइफलें है। वर्तमान में भारत में सुरक्षाबल 5.56x45 एमएम की इनसास राइफलों का प्रयोग करते हैं।

खबरें और भी:-

बुधवार को भी तेजी के साथ खुले शेयर बाजार

सीनियर नेशनल बैडमिंटन चैंपियनशिप में इन खिलाड़ियों ने की विजयी शुरुआत

World Radio Day : आज भी लोगों के लिए बेहद खास है रेडियो..