कभी एक-एक पैसे के मोहताज थे क्रिकेट के ये धुरंधर, आज बन चुके हैं सबसे अमीर खिलाड़ी

दुनियाभर में अपनी बल्लेबाजी और गेंदबाजी के लिए मशहूर होने वाले भारतीय बल्लेबाजों और गेंदबाजों को आप सभी जानते ही होंगे। इस लिस्ट में महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली, सचिन तेंदुलकर, युवराज सिंह शामिल है। इन सभी को आप इनकी बेहतरीन बल्लेजबाजी के लिए जानते होंगे। दुनियाभर में इनकी फैन फॉलोइंग करोड़ों में है। यह सभी अपने दमदार अंदाज के लिए मशहूर हैं और इन्हे हर कोई पसंद करता है। ये जब खेल के मैदान में आते हैं तो इन्हे चीयर्स करने वालों कि कमी नहीं होती है। जो इन्हे खेलते हुए देखता है वह ख़ुशी से झूम उठता है। इनके प्रदर्शन कभी-कभी इतने बेहतरीन होते हैं कि लोग इनकी तारीफ़ किये बिना नहीं रह पाते हैं। वैसे इन बल्लेबाजों और गेंदबाजों को सफलता इतनी आसानी से नहीं मिली। सफलता पाने के लिए इन सभी ने कड़ा संघर्ष किया है फिर वह महेंद्र सिंह धोनी हो या फिर सचिन तेंदुलकर। सभी ने सफलता के स्वाद को चखने के लिए दिन-रात एक किये हैं। हम सभी जानते ही हैं कि सफलता किसी को यूँ ही नहीं मिल जाती है। सफलता पाने के लिए बहुत मेहनत करनी होती है और वही मेहनत इन खिलाड़ियों ने की है जिनके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। ये वो खिलाड़ी हैं जिन्होंने पहले गरीबी में जीवन बिताया और अब अमीरों की लिस्ट में आगे हैं। आइए मिलते हैं इनसे।

महेंद्र सिंह धोनी- भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके महेन्द्र सिंह धोनी के आज करोड़ों फैंस हैं। महेंद्र सिंह धोनी ने आज दुनियाभर में अपनी सफलता का परचम लहराया है। वह अपनी बल्लेबाजी के लिए मशहूर हैं। वैसे इनके करियर से तो आप सभी अच्छे से वाकिफ होंगे। महेंद्र सिंह धोनी के करियर के ऊपर एक फिल्म भी बन चुकी है जिसका नाम था 'M.S. Dhoni: The Untold Story' इस फिल्म में आपने महेंद्र सिंह धोनी का किरदार निभाते हुए सुशांत सिंह राजपूत को देखा होगा जो अब इस दुनिया में नहीं रहे। महेंद्र सिंह धोनी एक ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका जन्म एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था। वह झारखंड के रांची शहर से हैं और उन्होंने अपने शुरुआती करियर में खड़गपुर रेलवे स्टेशन पर टिकट कलेक्टर का काम किया है। आज महेन्द्र सिंह धोनी विश्व क्रिकेट के सबसे बड़े खिलाड़ियों में से एक माने जाते हैं। आज धोनी के पास वह सब है जो उन्हें चाहिए। महेन्द्र सिंह धोनी बड़ी-बड़ी कारों से लेकर बड़े-बड़े बंगलों तक के मालिक हैं। आज उनका नाम अमीरों की लिस्ट में शामिल है और यह सब केवल और केवल मेहनत के कारण हो पाया है जो महेन्द्र सिंह धोनी ने बड़ी शिद्दत से की है।

इरफान पठान और युसुफ पठान- इन दोनों भाइयों को भी आप अच्छे से जानते होंगे। भारतीय क्रिकेट टीम में दोनों ने एक अलग ही मुकाम पाया है। दोनों को आज लाखों-करोड़ो लोग जानते हैं और पसंद भी करते हैं। दोनों ही ऑलराउंडर खिलाड़ी हैं और दोनों का खेल जबरदस्त है। इन दोनों भाइयों को सफलता का स्वाद चखने में समय लगा। वैसे दोनों के करियर के बारे में बात करें तो दोनों ने इस मुकाम पर पहुँचने के लिए बहुत मेहनत की है। दोनों का जन्म एक बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था। इन दोनों के पिता एक मस्जिद में झाड़ू लगाने का काम करते थे, लेकिन उन्होंने अपने सपनों को अपने बेटों के माध्यम से जिया। अपने बेटों को उन्होंने क्रिकेट खिलवाया क्योंकि वह उन्हें बेहतरीन क्रिकेटर बनाना चाहते थे। उनकी मेहनत रंग लाई और दोनों ही भाइयों ने क्रिकेट के मैदान में बेहतरीन रंग जमाये। आज दोनों भाइयों के पास वो सब कुछ है जो वह चाहते हैं। अमीरों की लिस्ट में आज दोनों भाइयों का नाम है और दोनों की बेहतरीन फैन फॉलोइंग भी है।

रविन्द्र जडेजा- भारतीय क्रिकेट टीम में ऑलराउंडर कहे जाने वाले रविन्द्र जडेजा को भी आप सभी बहुत अच्छे से जानते होंगे। आज उन्हें एक बहुत ही मुख्य और खास खिलाड़ी के रूप में जाना जाता है। रविन्द्र जडेजा ने भारतीय क्रिकेट टीम में अपना अहम योगदान दिया है। उनके खेल से लाखों लोग प्रभावित रहे हैं। रविंद्र को लोगों ने बहुत प्यार दिया है लेकिन इस प्यार और सफलता को पाने के लिए रविंद्र ने जी तोड़ मेहनत की है। जी हाँ, रविंद्र जब संघर्ष कर रहे थे तो वह बहुत ही गरीब परिवार से थे। उनके पिता एक सिक्योरिटी गार्ड हुआ करते थे। साल 2005 में उनकी मां का निधन हो गया और उसके बाद रविंद्र ने क्रिकेट छोड़ दिया। कुछ ही समय बाद रविंद्र ने फिर से मेहनत की और साल 2008 में वह अंडर-19 टीम का हिस्सा रहे। अब आज वह ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हे हर कोई जानता है। आज रविंद्र अमीरों की लिस्ट में शामिल हैं। वह बहुत ही बेहतरीन और अमीर भारतीय खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल हैं।

रोहित शर्मा- आज भारतीय क्रिकेट टीम की जान कहे जाने वाले रोहित शर्मा भी आज अमीरों की लिस्ट में शामिल है। एक समय था जब रोहित बहुत गरीब हुआ करते थे लेकिन अपनी मेहनत, अपने काम और अपने बेहतरीन प्रदर्शन के चलते रोहित ने आज बेहतरीन फैन फॉलोइंग बना डाली है। आज रोहित के करोड़ों फैंस हैं जो उन्हें बहुत प्यार देते हैं। वैसे रोहित अपने घर में सबसे बड़े थे और जब उनके यहाँ आर्थिंक तंगी थी तो उस दौरान सारी जिम्मेदारियां भी उन्ही पर थीं। उस दौरान रोहित के पिता गुरुनाथ शर्मा ट्रांसपोर्ट कंपनी में काम करते थे। कुछ ही समय बाद रोहित के पिता की नौकरी छूट गई और इसी के कारण पूरा परिवार संकट में आ गया। रोहित घर के सबसे बड़े बेटे थे इस कारण सब उन्हें ही संभालना था। उस दौरान रोहित ने स्थानीय टूर्नामेंट्‍स में हिस्सा लेकर पैसे एकत्र किये और इसी बीच उनकी कड़ी मेहनत के चलते उनका मुंबई रणजी टीम में चयन हुआ। साल 2007 में उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय डेब्यू किया और इसके बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। आज रोहित करोड़ों की प्रॉपर्टी के मालिक है। उनके पास 1.4 करोड़ की BMW कार है जो उन्होंने साल 2017 में खरीदी थी। आज रोहित अपने दम पर पूरी दुनिया में एक बेहतरीन मुकाम हासिल कर चुके हैं।

वीरेंद्र सहवाग- इन्हे तो आप बहुत अच्छे से जानते होंगे। भारतीय टीम के विस्फोटक बल्लेबाज कहे जाने वाले वीरेंद्र सहवाग एक महान खिलाड़ी रह चुके हैं। वैसे अब उन्होंने सन्यास ले लिया है लेकिन उन्होंने अपने समय में अपने बेहतरीन खेल से करोड़ों फैंस के दिलों को जीता है। वीरेंद्र सहवाग ने टेस्ट में दो बार तीहरा शतक लगा चुके हैं। इसी के साथ उन्होंने वनडे में दोहरा शतक भी लगाया है। सहवाग ने जब अपने करियर की शुरुआत की तो वह तंगहाली में जीवन जी रहे थे। उस दौरान उनके पिता एक गेंहू व्यापारी थे और उनके घर में कुल 50 लोग रहते थे। उस समय में सहवाग के पास गाड़ी नहीं थी और प्रेक्टिस करने के लिए उन्हें 84 किलोमीटर पैदल जाना पड़ता था। काफी दिनों तक आर्थिक तंगी झेलने के बाद वीरेंद्र सहवाग ने अपनी मेहनत और अपनी काबिलयत दिखाकर भारतीय क्रिकेट टीम में जगह बनाई। आज वीरेंद्र सहवाग करोड़ों में खेलने वाले बल्लेबाज हैं। उनके पास लाखों की कारें हैं और वह आज इस मुकाम पर है कि 50 लोगों को चुटकी बजाकर खिला-पिला सकते हैं।

उमेश यादव- उमेश यादव को आप सभी अच्छे से जानते होंगे। उमेश भारतीय क्रिकेट टीम के बेहतरीन गेंदबाज है। आज उनकी तेज गेंदबाजी से हर कोई वाकिफ है। अपनी गेंदबाजी के चलते आज उमेश ने लाखों फैंस के दिलों में जगह बनाई है। वैसे उमेश उन खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल है जिन्होंने गरीबी में बचपन गुजारा है। उमेश जब संघर्ष कर रहे थे उस दौरान उनके पिता कोल माइन का काम करते थे। पिता की जो तनख्वाह थी उसमे केवल दो वक्त का खाना नसीब होता था और कभी-कभी तो वह भी नहीं मिलता था और भूखे पेट ही सोना पड़ता था। गरीबी के बुरे दिनों को देखते हुए उमेश ने 12वी कक्षा तक ही पढ़ाई की और फिर स्कूल छोड़ दिया। उसके बाद उन्होंने अपने कदम आगे बढ़ाये और इंडियन आर्मी में जाना चाहा लेकिन वहां उनका सिलेक्शन नहीं हो सका। उसके बाद उमेश यादव ने पुलिस में भर्ती होने के लिए मेहनत की लेकिन वहां भी उनका सिलेक्शन नहीं हुआ। अंत में उमेश ने क्रिकेट के मैदान में अपने कदम बढ़ाये और जी-तोड़ मेहनत की। उनकी मेहनत रंग लाई और उसके बाद उमेश सबसे अमीर भारतीय खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल हो गए। आज उनकी गेंदबाजी के आगे कोई नहीं टिकता। आज उन्हें भारत के सबसे तेज गेंदबाजों की लिस्ट में जगह मिली हुई है और उनकी गेंदबाजी देखकर अच्छे -अच्छे खिलाड़ियों के पसीने छूट जाते हैं। 

बेटी होने पर कोई फीस नहीं लेती हैं डॉक्टर शिप्रा धर, पूरे अस्पताल में बंटवाती हैं मिठाईयां

बलात्कार का शिकार होते हैं पुरुष लेकिन आप मानेंगे नहीं

किसी के पास दो मुंह तो किसी के पास दो योनि, जानिए दुनिया के अजीबोगरीब लोगों के बारे में

 

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -