क्या 'तालिबान' के खिलाफ युद्ध छेड़ेगा भारत ? तैयारियों को धार देने में जुटी इंडियन आर्मी

नई दिल्ली: अफगानिस्तान में आतंकी संगठन तालिबान के सत्ता में काबिज होते में भारत में सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की जाने लगी है। देश की सरहदों को सुरक्षित करने के लिए अब भारतीय जवानों को नए मॉड्यूल के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा। नए ट्रेनिंग मॉड्यूल को तालिबान को केंद्रित कर ऑपरेट किया जाएगा और तालिबान की जिस प्रकार की युद्ध रणनीति रहती है, उसको ध्यान में रखकर तैयार किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि तालिबान के सत्ता में आते ही पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठनों के एक बार फिर एक्टिव होने की आशंका जताई जा रही है और माना जा रहा है कि दक्षिण एशिया में आतंकी गतिविधियां एक बार फिर बढ़ सकती है। गत माह अफगानिस्तान में तालिबान की जीत के बाद इंडियन आर्मी और सशस्त्र पुलिस बल निरंतर अपनी तैयारियों की समीक्षा कर रही है। कुछ दिन पहले ही यह भी आशंका जताई गई थी कि तालिबान की सरकार बनने के बाद भारत की पश्चिमी सीमा पर चौकसी बढ़ाना आवश्यक हो गया है, क्योंकि पाक बॉर्डर से आतंकी घुसपैठ को बढ़ावा मिल सकता है, जिसमें कई विदेशी आतंकी भी शामिल हो सकते हैं।

सुरक्षा मामलों से संबंधित एक वरिष्ठ अधिकारी ने मीडिया को बताया कि BSF और SSB जैसे सीमा सुरक्षा बलों, राज्य पुलिस इकाइयों और CRPF और जम्मू-कश्मीर पुलिस जैसे आतंकवाद विरोधी कर्तव्यों में शामिल जवानों को नए मॉड्यूल के तहत प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण में 9/11 आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान में जो भी घटनाक्रम हुआ है, उसे भी पाठ्यक्रम में जोड़ा गया है।

30 साल बाद हुआ चमत्कार, अचानक बहने लगा सूखा झरना

1953 को मनाया गया था पहला राष्ट्रीय हिंदी दिवस, जानिए हिंदी के बारे में क्या थी महात्मा गांधी की राय

भूकंप के झटकों से डोली लद्दाख की धरती, लोगों में मच गया हड़कंप

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -