कोरोना के बाद के समय में सेशेल्स के साथ द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करेगा भारत: जयशंकर

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सेशेल्स की दो दिवसीय यात्रा में भारत के शीर्ष नेतृत्व के साथ चर्चा की तथा इस दौरान भारत ने हिंद महासागर के इस भारत के साथ कोरोना के पश्चात् के दौर में रणनीतिक संबंध तथा मजबूत करने का संकल्प लिया। संयुक्त अरब अमीरात से यहां पहुंचे जयशंकर मंगलवार को आरम्भ हुई तीन देशों की अपनी इस यात्रा के तहत बहरीन भी गए थे।

जयशंकर ने सेशेल्स के भारतीय मूल के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति वैवेल रामकलावन से शुक्रवार को भेंट की तथा उन्हें इलेक्शन में हाल में मिली जीत की शुभकामनाएं दी। एस जयशंकर तथा रामकलावन ने कानून के शासन और लोकतंत्र के मूल्यों में साझा भरोसे पर आधारित दोनों देशों के ऐतिहासिक तौर पर मजबूत संबंधों पर बातचीत की।

विदेश मंत्रालय की शनिवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘‘उन्होंने कोरोना दौर के पश्चात् भारत और सेशेल्स के मध्य रणनीतिक भागेदारी को और बढ़ाने के भारत के संकल्प को दोहराया।’’ इसमें कहा गया कि मंत्री ने ‘‘भारत के ‘सागर’ (क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा एवं विकास) दृष्टिकोण में सेशेल्स के महत्वपूर्ण होने की बात की, जो हिंद महासागर क्षेत्र की तरफ भारत की नीति को दिखाता है। जलक्षेत्र पार के पड़ोसी होने के नाते सेशेल्स ‘पड़ोसी को प्राथमिकता देने’ की भारत की नीति का भी भाग है।’’ जयशकंर ने पीएम नरेन्द्र मोदी का एक प्राइवेट संदेश भी रामकलावन तक पहुंचाया। भारत ने सेशेल्स के राष्ट्रपति को 2021 में भारत आने का आमंत्रण दिया है। जयशंकर ने रामकलावन के साथ बैठक के पश्चात् ट्वीट किया, ‘‘हमने हमारे समीप सुरक्षा सहयोग, विकास को लेकर मजबूत भागेदारी तथा व्यक्तियों के मध्य पुराने संबंधों पर बात की।’’

अमित शाह का ओवैसी पर वॉर- एक बार लिखकर दें, मैं बाहर निकालता हूं

'काले कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक हल निकालेंगे?' : राहुल गांधी

कोरोना के कारण पर्यटन इलाकों में घटी पर्यटकों की मात्रा

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -